अपना शहर चुनें

States

Bhopal: जिस जमीन को लेकर पुराने इलाकों में लगा था कर्फ्यू, उसकी पैरवी कर रहे वकील को पीटा, जान से मारने की धमकी मिली

विवादित जमीन की पैरवी कर रहे वकील की पिटाई कर दी गई.. (प्रतिकात्मक फोटो) .
विवादित जमीन की पैरवी कर रहे वकील की पिटाई कर दी गई.. (प्रतिकात्मक फोटो) .

जमीन का केस हारने के बाद वक्फ ट्रिब्यूनल पहुंचे सुलेमान के खिलाफ श्याम नागवार द्वारा आपत्ति लगाई गई. उनकी पैरवी कर रहे वकील जगदीश छावानी की दोपहर को सवा 2 बजे अज्ञात लोगों ने पिटाई कर दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2021, 5:13 PM IST
  • Share this:
भोपाल. हाल ही में जिस जमीन को लेकर शहर के पुराने इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया था, वो विवाद थमता नजर नहीं आ रहा. ये जमीन हनुमानगंज थाना इलाके में RSS कार्यालय के सामने है. शुक्रवार को मामले में नया विवाद हो गया.

दरअसल जमीन का केस हारने के बाद वक्फ ट्रिब्यूनल पहुंचे सुलेमान के खिलाफ श्याम नागवार द्वारा आपत्ति लगाई गई. उनकी पैरवी कर रहे वकील जगदीश छावानी की दोपहर को सवा 2 बजे अज्ञात लोगों ने पिटाई कर दी. घटना कलेक्टर ऑफिस के पास की है. जानकारी के मुताबिक, आरोपियों ने उन्हें धमकाते हुए कहा कि हमारे खिलाफ खूब बोल रहा है तू. अगर कल कोर्ट गया, तो जान से मार देंगे. लोगों के इकट्‌ठा होने पर आरोपी भाग गए.

बदमाशों ने घेर कर पीटा, जान से मारने की धमकी दी



घटना के बाद जगदीश थाने पहुंच गए. पुलिस ने उनके बयान दर्ज कर लिए हैं. बताया जाता है कि जगदीश कलेक्टर ऑफिस के पास से जा रहे थे. इसी दौरान 4 बदमाशों ने उन्हें घेर लिया. उन्होंने पिटाई करते हुए जान से मारने की धमकी दी. गौरतलब है कि कबाड़खाना में RSS कार्यालय के सामने वाली जमीन विवाद को लेकर वक्फ ट्रिब्यूनल में याचिका लगी है. केस हारने वाले मोहम्मद सुलेमान ने इसमें याचिका लगाई है. इसके खिलाफ श्याम नागवार ने भी वक्फ ट्रिब्यूनल में याचिका लगाई है. नागवार की तरफ से जगदीश केस लड़ रहे हैं. गुरुवार को सुनवाई के दौरान दूसरे पक्ष के लोगों ने जमकर हंगामा किया था. इस पर जगदीश ने आपत्ति जताई थी.
वास्तविक मामला यह है 

संघ कार्यालय केशव निडम के सामने स्थित 37 हजार वर्गफीट जमीन को लेकर मो. सुलेमान और मो. इमरान फिर वक्फ ट्रिब्यूनल में पहुंच गए. उन्होंने इसके साथ ही सिंधी कॉलोनी और काजी कैंप सहित आसपास की 6.5 एकड़ जमीन को कब्रिस्तान बताया है. इसमें उन्होंने विधायक आरिफ अकील का शपथ पत्र प्रस्तुत किया है. इसमें अकील ने इस पूरे क्षेत्र में कब्रिस्तान होने की बात कही है. उन्होंने शपथ पत्र में कहा कि 37 हजार वर्गफीट का कब्जा गैर कानूनी तरीके से राजदेव ट्रस्ट को सौंपा गया. दावा किया कि उन्हें प्रशासन ने स्थल पर जाने से रोका. इससे पहले हाई कोर्ट ने यह जमीन राजदेव ट्रस्ट को सौंपने के आदेश दे चुका था. इसके बाद भोपाल में तीन थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू और 11 थाना क्षेत्रों में धारा 144 लगाकर इस जमीन को राजदेव ट्रस्ट के कब्जे में दी जा चुकी है. जमीन के चारों तरफ दीवार उठा दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज