71 साल बाद भारत में दिखेगा चीता : अफ्रीका से कूनो पालपुर लाने की तैयारी, केंद्र ने जारी किया शेड्यूल

दिसंबर तक 7 चीते श्योपुर के पालपुर कूनो पहुंच जाएंगे.

दिसंबर तक 7 चीते श्योपुर के पालपुर कूनो पहुंच जाएंगे.

Bhopal. जब से चीतों (Cheetah) के आने की खबर मिली है कूनो पालपुर पार्क का पूरा स्टाफ खुश है. सभी नये मेहमानों के स्वागत की तैयार कर रहे हैं. घास का मैदान और शिकार के लिए पर्याप्त इंतजाम किए जा रहे हैं. ताकि अफ्रीकन चीते कूनो पालपुर में अनुकूल माहौल पा सकें.

  • Share this:

भोपाल. टाइगर स्टेट (Tiger State) मध्य प्रदेश में अब अफ्रीकन चीते (Cheeta) भी दिखाई देंगे. श्योपुर के कूनो पालपुर नेशनल पार्क में जल्द ही अफ्रीकन चीते आने वाले हैं. सब कुछ ठीक रहा तो इस साल दिसंबर तक उनका रीलोकेशन हो सकता है. केंद्र सरकार ने इसका पूरा शेड्यूल जारी कर दिया है.

लंबी चली कवायद के बाद केंद्र सरकार ने अफ्रीकी चीतों को कूनो पालपुर में बसाने का कार्यक्रम तैयार किया है. केंद्रीय वन विभाग के हवाले से यह जानकारी मिली है कि केंद्रीय पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने अफ्रीकी चीतों को भारत लाने की तैयारी कर ली है. अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्यजीव जे एस चौहान ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका के लुप्तप्राय वन्यजीव ट्रस्ट ईडब्ल्यूटी ने पांच नर और तीन मादा देने पर सहमति जताई है. इस सहमति के बाद केंद्र सरकार ने चीतों को मध्यप्रदेश में बसाने का कार्यक्रम जारी किया है.

ये है शेड्यूल

चीतों को भारत लाने का जो कार्यक्रम तैयार किया गया है उसके मुताबिक जुलाई महीने में अफ्रीकन चीतों को वहां से रेस्क्यू किया जाएगा. उसके बाद अक्टूबर-नवंबर में उन्हें भारत लाया जाएगा. उम्मीद है कि दिसंबर तक चीते कूनो पालपुर में पहुंच जाएंगे.
कूनो पालपुर सबसे बढ़िया

कभी मध्यप्रदेश की धरती पर भी चीते नजर आते थे. लेकिन 1950 के दशक के बाद एशियाई चीते विलुप्त हो गए और उसके बाद से चीतों को भारत में लाने की तैयारी चल रही थी जो अब जाकर पूरी होती दिख रही है. इससे पहले अफ्रीकन और भारत के विशेषज्ञों ने दौरा कर यहां के हालात का जायज़ा लिया था. उन्हें चीतों के लिए कूनो पालपुर का पर्यावरण सबसे ज्यादा उपयुक्त लगा. विशेषज्ञों ने कूनो पालपुर में चीतों को बसाने के लिए कुछ सुझाव दिए हैं.




स्वागत की तैयारी

जब से चीतों के आने की खबर मिली है कूनो पालपुर पार्क का पूरा स्टाफ खुश है. सभी नये मेहमानों के स्वागत की तैयार कर रहे हैं. घास का मैदान और शिकार के लिए पर्याप्त इंतजाम किए जा रहे हैं. ताकि अफ्रीकन चीते कूनो पालपुर में अनुकूल माहौल पा सकें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज