होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /कैबिनेट विस्तार के बाद अब विभागों को लेकर फंसा पेंच, 'मलाईदार' मंत्री पद को लेकर अड़े सिंधिया!

कैबिनेट विस्तार के बाद अब विभागों को लेकर फंसा पेंच, 'मलाईदार' मंत्री पद को लेकर अड़े सिंधिया!

लिहाजा हाईकमान ने विभागों की सूची भी अपने पास रख ली है. (फाइल फोटो)

लिहाजा हाईकमान ने विभागों की सूची भी अपने पास रख ली है. (फाइल फोटो)

विभागों के बंटवारे की जिम्मेदारी भी अब कैबिनेट विस्तार की तरह केंद्रीय नेतृत्व (Central Leadership) पर ही छोड़ दिया गया ...अधिक पढ़ें

    भोपाल. मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल का विस्तार भले ही हो गया हो पर विभागों (Departments) को लेकर अभी भी पेंच फसा हुआ है. जानकारी के मुताबिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) अपने पसंद के विधायकों को मंत्री बनाने के बाद अब अपने हिसाब से ही उन्हें विभाग भी देने पर अड़े हुए हैं. इसके लिए फिर से दिल्ली का दौर शुरू हो गया है. सिंधिया अपने पसंद के विभाग के लिए बीजेपी पर लगातार दबाव बना रहे हैं. वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित कई नेताओं से मुलाकात भी की है. हालांकि, विभागों को लेकर अभी तक बात नहीं बन पाई है.

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, विभागों के बंटवारे की जिम्मेदारी भी अब कैबिनेट विस्तार की तरह केंद्रीय नेतृत्व पर ही छोड़ दिया गया है. इसके लिए केंद्रीय नेताओं के साथ दिल्ली में दो दिनों तक बैठकें भी हुईं. हालांकि, इसके बाद भी तय नहीं हो सका कि बीजेपी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के खेमे में कौन सा विभाग जाएगा. सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद विभागों के बंटवारे को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात कर चुके हैं. लेकिन विभागों को लेकर सहमति नहीं बन पाई है. सूत्रों की मानें तो सिंधिया 7 कैबिनेट मंत्रियों के लिए बड़े विभाग मांग रहे हैं. साथ ही 4 राज्यमंत्रियों के लिए वे विभागों का स्वतंत्र प्रभार भी चाह रहे हैं.

    सिंधिया ने अपनी इच्‍छा कर दी है जाहिर
    कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए ज्योतिराधित्य सिंधिया ने अपनी बात केंद्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष को बता दी है. लिहाजा हाईकमान ने विभागों की सूची भी अपने पास रख ली है. इसके बाद प्रदेश संगठन से भी राय ली गई है. कहा जा रहा है कि राजस्व, स्वास्थ्य, परिवहन, जल संसाधन, नगरीय विकास, पीडब्ल्यूडी, पीएचई, वाणिज्यिक कर, आबकारी, स्कूल शिक्षा और महिला एवं बाल विकास विभाग को लेकर ज्यादा झगड़ा है. इसी बीच खबर है कि सिंधिया ने देर रात प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे से उनके आवास पर जाकर मुलाकात की. उन्होंने विभागों को लेकर सहस्त्रबुद्धे के सामने अपनी मंसा जाहिर कर दी है.

    Tags: Bhopal news, CM Shivraj Singh, Jyotiraditya Sindhiya, Madhya Pradsh News

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें