लाइव टीवी

गुजरात के बाद MP बनेगा टेक्सटाइल और गारमेंटस का सबसे बड़ा हब, इन कंपनियों ने दिखायी रुचि
Bhopal News in Hindi

Anurag Shrivastav | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 14, 2020, 6:13 PM IST
गुजरात के बाद MP बनेगा टेक्सटाइल और गारमेंटस का सबसे बड़ा हब, इन कंपनियों ने दिखायी रुचि
मध्य प्रदेश टेक्सटाइल हब बनेगा

उद्योगों को 7 दिन की समय सीमा के अंदर 40 से ज्यादा सेवाएं मुहैया करायी जाएंगी. उद्योग लगाने के लिए सभी तरह की जरूरी मंजूरी तय समय सीमा में दी जाएंगी. साथ ही उद्योग लगाने वाले कंपनियों को सरकार इंसेंटिव भी देगी.

  • Share this:
दिल्ली.कमलनाथ सरकार (Kamalnath government) मध्य प्रदेश को टेक्सटाइल और गारमेंटस का बड़ा हब बनाने जा रही है. इसमें  करोड़ों का निवेश होगा.भोपाल और ग्वालियर में निवेश के तीन हजार करोड़ से प्रस्ताव राज्य सरकार को मिले हैं.दिल्ली में उद्योगपतियों के साथ आज हुई बैठक में कई बड़ी और नामी कंपनियों ने एमपी में उद्योग लगाने का प्रस्ताव दिया है.  मुख्यमंत्री  ने भी ऐलान किया कि प्रदेश में 100 करोड़ ज्यादा का निवेश करने वालों को कई बड़ी रियायतें मेगा इंडस्ट्री का दर्जा देकर कई सुविधाएं दी जाएंगी.

गुजरात के बाद अब मध्यप्रदेश टेक्सटाइल और गारमेंटस का बड़ा हब होगा.सीएम कमलनाथ की आज दिल्ली में हुई उद्योपतियों के साथ चर्चा में करोड़ों के निवेश के प्रस्तावों पर मुहर लगी है.ट्राइडेंट कंपनी समेत नामचीन कंपनियों ने करोड़ों के निवेश में रुचि दिखाई है.कमलनाथ के साथ राउंड टेबिल चर्चा में प्रदेश के निवेश को लेकर चर्चा हुई है. इसमें  मुख्यमंत्री कमलनाथ (cm kamalnath) ने ऐलान किया है कि मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में जो भी उद्योगपति या कंपनी 100 करोड़ रुपए से ज़्यादा का निवेश करेगी उस उद्योग को मेगा उद्योग माना जाएगा.

7 दिन में 40 से ज़्यादा सुविधाएं
फ़ूड प्रोसेसिंग सेक्टर (Food Processing Sector) के उद्योगपतियों के साथ दिल्ली के ताज होटल में हुई बैठक में सीएम ने कहा सरकार उद्योगों को निवेश प्रोत्साहन नीति के जरिए रियायतें देगी. उद्योगों को 7 दिन की समय सीमा के अंदर 40 से ज्यादा सेवाएं मुहैया करायी जाएंगी. उद्योग लगाने के लिए सभी तरह की जरूरी मंजूरी तय समय सीमा में दी जाएंगी. साथ ही उद्योग लगाने वाले कंपनियों को सरकार इंसेंटिव भी देगी.

मेगा पार्क
इस बैठक के बाद सीएम ने घोषणा की कि प्लग एंड प्ले इंडस्ट्रियल पार्क बढ़िया खेड़ी सीहोर में बनाया जाएगा. 60 एकड़ जमीन पर ये मेगा पार्क बनाया जाएगा. निजी सेक्टर की मदद से एक गारमेंट पार्क भी बनाया जाएगा. इंदौर देवास के पास बरलाई में पीपीपी मॉडल पर ये गारमेंट पार्क तैयार होगा. इसके लिए राज्य सराकर ने मुख्य सचिव एस आर मोहंती की अध्यक्षता में समिति बना दी है. ये समिति कॉटन फॉर्मर्स और मैन्युफैक्चरर्स को प्रमोट करने करेगी.

प्रदेश में होगा करोड़ों का निवेशसीएम कमलनाथ की दिल्ली में उद्योगपतियों से मुलाकात के दौरान करोड़ के निवेश को मंजूरी मिली. इंदौर और सीहोर के साथ भोपाल और ग्वालियर में भी करोड़ों रुपए का निवेश होगा. ट्राइडेंट कंपनी 3000 करोड़ रुपए का भोपाल में निवेश करेगी. इसमें 10 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा. इसके अलावा गोकलदास एक्सपोर्ट्स भोपाल में 50 करोड़ का निवेश करेगी.इसमें तीन हजार लोगों को रोजगार मिलेगा.मयूर यूनिकोटर्स ग्वालियर में 100 करोड़ का निवेश करेगी. इसमें 1000 लोगों को रोजगार मिलेगा. टेक्सटाइल और गारमेंट के सेक्टर में करोड़ों के निवेश को मंजूरी मिली.

दिल्ली में बैठक
दिल्ली में हुई बैठक में मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फ़ूड प्रोसेसिंग सेक्टर के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा में इस सेक्टर से जुड़ी समस्याओं और सुझावों पर चर्चा हुई. सीएम कमलनाथ ने कहा एमपी में हॉर्टिकल्चर, एग्रीकल्चर और फ़ूड प्रोसेसिंग सेक्टर को प्राथमिकता दे रहे हैं.कैप्टिव एरिया में भी मध्यप्रदेश बेहतर जगह है. प्रदेश कई उत्पादों के उत्पादन में पहले, दूसरे या तीसरे स्थान पर है. सीएम कमलनाथ ने कहा मध्यप्रदेश को देश की हॉर्टिकल्चर राजधानी और ​​फ़ूड प्रोसेसिंग कैपिटल बनाने का भी लक्ष्य है.मध्यप्रदेश में इस सेक्टर के लिए तमाम सुविधाएं और उत्पाद मौजूद हैं.इंडस्ट्री लगाने और चलाने के लिए सभी जरूरी मंजूरी ऑनलाइन सुविधा मौजूद हैं.प्रति व्यक्ति आय और डिस्पोजेबल इनकम में अंतर होता है. डिस्पोजेबल इनकम से क्रय शक्ति निर्धारित होती है. मैं डिस्पोजेबल​ इनकम बढ़ाने के पक्ष में हूं.

ये भी पढ़ें-पुलवामा आतंकी हमला : इस घर में अब भगवान नहीं, शहीद अश्विनी काछी पूजे जाते हैं

Valentine's Day पर प्रेमियों को किया डिस्टर्ब तो खैर नहीं, लगेगी 'क्लास'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 4:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर