लाइव टीवी

इन वजहों से बसपा से नहीं हो सकता था कांग्रेस का गठबंधन, इस रिपोर्ट ने किया था खुलासा
Bhopal News in Hindi

Makarand Kale | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 4, 2018, 10:26 AM IST
इन वजहों से बसपा से नहीं हो सकता था कांग्रेस का गठबंधन, इस रिपोर्ट ने किया था खुलासा
File photo of BSP chief Mayawati.

अब जबकि मायावती ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाकर गठबंधन तोड़ने की धमकी दे दी तो इस रिपोर्ट के तथ्य सामने आए हैं

  • Share this:
कांग्रेस से गठबंधन को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती के सिलसिलेवार हमले के बाद कांग्रेस में हड़कंप मचा हुआ है. वहीं एक और खुलासा सामने आया है. कांग्रेस पार्टी के सूत्रों के मुताबिक बीएसपी गठबंधन को लेकर गंभीर नहीं थी. कांग्रेस की एक आंतरिक रिपोर्ट में भी इस बात का ज़िक्र किया गया था कि अगर बीएसपी के साथ गठबंधन किया गया तो बीएसपी बीजेपी को फायदा पहुंचा सकती है.

हालांकि इस रिपोर्ट को कांग्रेस के अंदर कोई खास महत्व तब नहीं दिया गया था और प्रदेश कांग्रेस के नेता और प्रदेश बसपा के नेता गठबंधन की संभावनाओं को नकार नहीं रहे थे. लेकिन अब जबकि मायावती ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाकर गठबंधन तोड़ने की धमकी दे दी तो इस रिपोर्ट के तथ्य सामने आए हैं.

-बीएसपी ने कांग्रेस से 50 सीटों की मांग की थी. इन 50 में से आधी सीटें 2008 और 2013 में या तो कांग्रेस ने जीती थीं या तो बीएसपी ने. इन 50 में 11 सीटों पर बीएसपी का कब्ज़ा था और 14 पर कांग्रेस का, बाकी की 25 सीटों पर बीजेपी 2008 और 2013 में जीती थी.
-अगर कांग्रेस बीएसपी का गठबंधन होता तो इन 25 में से सिर्फ 10 सीटों पर जीत की गुंजाइश थी. ऐसा लग रहा है कि इन 25 सीटों पर अगर कांग्रेस प्रत्याशी नहीं उतारती तो बीजेपी की जीत आसान हो जाएगी.

-इसके अलावा बीएसपी ने कुछ ऐसी सीटों की मांग नहीं की जहां वो आसानी से जीत सकती है और जहां उन्होंने 2013 में काफी अच्छा प्रदर्शन किया. जैसे कि श्योपुर, सुमावली औऱ कटंगी.
-इन सीटों पर कांग्रेस औऱ बीएसपी के गठबंधन के बाद अगर बीएसपी उम्मीदवार उतारती तो वो आसानी से जीत सकता था. बीएसपी ने इनकी मांग नहीं कि जिसका मतलब है कि बीजेपी की जीत का रास्ता साफ किया गया है.

मायावती के आरोप के बाद कांग्रेस में भूचाल मचना तय है. मायावती ने उन पर आरोप लगया था कि केंद्रीय एजेंसियों के दबाव के चलते वे गठबंधन के पक्ष में ठीक से नहीं बोल पा रहे हैं. हालांकि दिग्विजय को छोड़कर अभी तक किसी भी कांग्रेस नेता ने इस पर बयान नहीं दिया है.दिग्विजय ने मायावती द्वारा लगाए गए आरोप को निराधार बताया है. दिग्विजय सिंह ने कहा कि मायावती के आरोप बेबुनियाद हैं. वे खुद बसपा और कांग्रेस के गठबंधन के साथ हैं. (इसे पढ़ें- कांग्रेस-BSP के गठबंधन का पक्षधर हूं मैं, समझ से परे मायावती का बयान: दिग्विजय)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2018, 8:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर