अपनी घोषणाओं पर अमल कर दें शिवराज, तो MP की महिलाएं बन जाएंगी आत्मनिर्भर

महिला दिवस के मौके पर सीएम शिवराज ने महिलाओं के लिए ढेर सारी घोषणाएं की. (फाइल फोटो)

महिला दिवस के मौके पर सीएम शिवराज ने महिलाओं के लिए ढेर सारी घोषणाएं की. (फाइल फोटो)

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिलाओं, बेटियों के लिए इतनी छप्परफाड़ घोषणाएं कीं कि अगर वह एक साल में न सही, पूरे कार्यकाल में इन सकारात्मक घोषणाओं पर अमल कर दें, तो महिलाओं की तकदीर बदल जाएगी और वास्तव में MP की महिलाएं आत्मनिर्भर बन जाएंगीं.

  • Share this:
भोपाल. सोमवार 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) का दिन विशेषकर मध्यप्रदेश की महिलाओं के लिए सम्मान, सपनों और उम्मीदों से भरा था. इस दिन राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिलाओं, बेटियों के लिए इतनी छप्परफाड़ घोषणाएं कीं, कि अगर वह एक साल में न सही, पूरे कार्यकाल में इन सकारात्मक घोषणाओं पर अमल कर दें, तो महिलाओं की तकदीर बदल जाएगी और वास्तव में मप्र की महिलाएं आत्मनिर्भर बन जाएंगी. इन घोषणाओं की सराहना तो निश्चित रूप से की ही जानी चाहिए, लेकिन वास्तव में सरकार और सिस्टम को जमीनी हकीकत के आईने में झांकने की जरूरत है.

बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली सरकार का यह चौथा कार्यकाल है. डेढ़ दशक से भी ज्यादा समय से वह प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं. इन 15 वर्षों में 15 बार महिला दिवस भी आया है और हर महिला दिवस पर मुख्यमंत्री की वाणी से महिलाओं के हितों वाली घोषणाओं का झरना फूटा होगा, लेकिन वास्तव में यह उनके लिए भी आकलन का समय है, कि उनकी कितनी घोषणाएं धरातल पर उतरीं हैं.

सम्मान के साथ परंपरा का निर्वहन



अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को सम्मान देने की परंपरा है. लिहाजा इस महिला दिवस पर भी विधानसभा में स्पीकर की कुर्सी पर विधायक, सभापति झूमाबाई को बैठाकर, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बंगले में तैनात एक महिला पुलिस कर्मी अपनी कुर्सी पर आमंत्रित कर सम्मानित किया. झांसी रेल मंडल ने सम्मान स्वरूप झांसी से ग्वालियर तक यात्री ट्रेन बुंदेलखंड एक्सप्रेस की कमान महिलाओं के हाथ में सौंपी. अखबारों ने महिलाओं, बेटियों को एक दिन का अतिथि संपादक बनाया, संगठनों ने महिलाओं के सम्मान के कार्यक्रम किए. मध्यप्रदेश में “नारी तू नारायणी” के नाम से महिलाओं के सम्मान का सबसे बड़ा कार्यक्रम भोपाल के मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में हुआ. जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिलाओं के लिए इतनी घोषणाओं की बौछार कर दी कि 15 सालों से उनकी घोषणाओं को सुन रहे कानों को विश्वास नहीं हुआ.

हकीकत के आईने में घोषणाओं पर एक नजर

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज