मेडिकल कॉलेज हॉस्टल में छात्रा पर पेचकस से हमला, जूडो का ऐलान- 'पहले सुरक्षा फिर काम'

जूनियर डॉक्टरों का ऐलान, बिना सुरक्षा इंतज़ामों के नहीं करेंगे काम
जूनियर डॉक्टरों का ऐलान, बिना सुरक्षा इंतज़ामों के नहीं करेंगे काम

भोपाल (Bhopal) के गांधी मेडिकल कॉलेज (Gandhi Medical college) के हॉस्टल (Hostel) में आज अज्ञात व्यक्ति घुस गया, उसने एक छात्रा पर पेचकस से हमला किया. छात्रा ने उस पर बलात्कार के प्रयास का भी आरोप लगाया है.

  • Share this:
भोपाल. प्रदेश के सबसे बड़े गांधी मेडिकल कॉलेज (Gandhi Medical college) में सुरक्षा राम भरोसे है. सरकारी कॉलेज के हॉस्टल की हालत ऐसी है कि वहां न तो गार्ड है और ना ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम. यहां हॉस्टल की खिड़कियों (Windows) में ग्रिल (Grill) तक नहीं है. कोई भी बिना जांच पड़ताल (Checking) के कॉलेज में एंट्री कर सकता है. इसी लापरवाही के चलते देर रात एक अज्ञात व्यक्ति हॉस्टल में घुस गया. एक जूनियर डॉक्टर (Junior doctor) का आरोप है कि अज्ञात व्यक्ति ने उस पर रेप की कोशिश की. सफल न हो पाने अज्ञात युवक ने उस पर पेचकस से हमला किया, लेकिन जूनियर डॉक्टर किसी तरह उस पर हमला कर वहां से निकलने में कामयाब रही.

हॉस्टल में सुरक्षा की स्थिति
गांधी मेडिकल कॉलेज के सुरक्षा इंतज़ामों का मामला फिर चर्चा में है. मेडिकल कॉलेज में ना तो सुरक्षा गार्ड है और ना ही सीसीटीवी कैमरे, हॉस्टल के बाहर के कमरों और कैंपस में लाइट की व्यवस्था ही नहीं है. वहीं एच ब्लॉक के पीछे की दीवार बहुत ही छोटी है. ऊंचाई कम होने की वजह से बस्ती के पीछे के लोग आसानी से दीवार पार कर हॉस्टल में आ जाते हैं. वहीं पेड़ के सहारे भी हॉस्टल में एंट्री हो जाती है. खिड़कियों में ग्रिल ना होने के चलते कमरों में घुसना बेहद आसान होता है. यही वजह है कि आज जूनियर डॉक्टर बाल बाल बची.

पहले भी हो चुकी है दर्जनों वारदातें
जूडो ने आरोप लगाया कि, 'पिछले 6 महीने में चोरी की करीब एक दर्जन घटनाएं हो चुकी हैं. करीब 8 बार दो पहिया वाहन चोरी जा चुके हैं. हर बार प्रबंधन को बताया गया लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया. एच-ब्लॉक के हॉस्टल के बाहर की सड़क पर 6 से ज्यादा बार जूनियर डॉक्टरों (युवतियों) से छेड़छाड़ और अश्लील हरकतें हुईं, हर बार प्रबंधन से शिकायत की गई लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई. जिससे अब ये घटनाएं लगातार बढ़ रही है.'



News - सुरक्षा कारणों को लेकर सुर्खियों में रहा है गांधी मेडिकल कॉलेज
सुरक्षा कारणों को लेकर सुर्खियों में रहा है गांधी मेडिकल कॉलेज


जूनियर डॉक्टरों ने किया जमकर हंगामा
जूनियर डॉक्टरों ने लड़कियों की सुरक्षा को लेकर जमकर हंगामा किया. जूडो ने डीन से सुरक्षा की मांग करते हुए चेतावनी दी कि जब तक हॉस्टल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं किए जाएंगे तब तक काम नहीं करेंगे. उन्होंने आरोप लगाया कि लगातार इस तरह की वारदातें हो रही हैं. लेकिन सुरक्षा इंतज़ामों को लेकर प्रबंधन लापरवाह बना हुआ है. जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि, 'हॉस्टल में कोई सुरक्षा ही नहीं है. हम पिछले 6 महीनों से खिड़कियों में ग्रिल, सीसीटीवी कैमरे, हॉस्टल में दो गार्ड, इमरजेंसी अलार्म और कॉरिडोर में लाइट्स लगाने की मांग कर रहे हैं लेकिन अब तक कोई भी मांग पूरी नहीं की गई है.

डीन का पक्ष
गांधी मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. अरुणा कुमार और प्रबंधन घटना के कई घंटों के बाद हरकत में आए. जूनियर डॉक्टरों का आरोप है कि सुबह साढ़े 5 बजे सूचना देने के बाद भी प्रबंधन ने अब तक इस मामले में कोई ठोस कदम नहीं उठाया है. अलबत्ता डीन ने ये ज़रूर कहा है कि इस बारे में वो बात करेंगी.

ये भी पढ़ें -
तलाक के डेढ़ साल बाद भी पत्नी को दे रहा था धमकियां, मौका देख किया Acid Attack
कैबिनेट के फैसलेः रियल एस्टेट और पर्यटन के विकास से कमाई करेगी कमलनाथ सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज