“नेताओं के बेटे क्या भीख मांगेगे..” गोपाल भार्गव के इस बयान को मिला बाबूलाल गौर का समर्थन

उन्होंने कहा है कि सबको टिकट मांगने का अधिकार है. विधानसभा में मैने भी बहु के लिए टिकिट मांगा था. अब मैं अपने लिए टिकिट मांग रहा हूं.

News18 Madhya Pradesh
Updated: March 16, 2019, 1:14 PM IST
“नेताओं के बेटे क्या भीख मांगेगे..” गोपाल भार्गव के इस बयान को मिला बाबूलाल गौर का समर्थन
बाबूलाल गौर ( फाइल फोटो )
News18 Madhya Pradesh
Updated: March 16, 2019, 1:14 PM IST
पिछली दस विधानसभा चुनावों से लगातार जीतते आ रहे बीजेपी के दिग्गज नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने गोपाल भार्गव के नेताओं के परिजनों को टिकट दिए जाने के बयान का किया समर्थन किया है. उन्होंने कहा है कि सबको टिकट मांगने का अधिकार है. विधानसभा में मैने भी बहु के लिए टिकिट मांगा था. गौर ने कहा कि इस बार भी मोदी का प्रभाव है, लेकिन कम है. ऐसे में उम्मीदवार ही अहम होंगे. अपनी दावेदारी पेश करते हुए उन्होंने कहा कि मैं अपने लिए टिकिट मांग रहा हूं. इस दौरान कांग्रेस से टिकट का ऑफर मिलने के सवाल पर चुप्पी साधते हुए उन्होंने कहा कि कुछ बातों में खामोशी ही बेहतर होती है.

बता दें कि लोकसभा चुनाव के लिए टिकट को लेकर हुई चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक में एक बार फिर परिवारवाद की गूंज सुनाई दी थी. बैठक में कई नेताओं ने अपने बेटे और बेटियों के लिए टिकट की मांग की थी. पूर्व कैबिनेट मंत्री गौरीशंकर बिसेन अपनी बेटी मौसम सिंह के लिए बालाघाट से टिकट की मांग की तो नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सागर से अपने बेटे अभिषेक भार्गव के नाम की पैरवी करते हुए दिखाई दिए.

बैठक के बीच बाहर निकले गोपाल भार्गव ने मीडिया से बात करते हुए साफ किया कि जब किसान का बेटा किसानी, अधिकारी का बेटा अधिकारी बनता है तो क्या राजनेता के बेटे को भीख मांगनी चाहिए. गोपाल भार्गव के इस बयान के बाद एक बार फिर बीजेपी के अंदरखाने की सियासत गर्म है.



ये भी पढ़ें- महापौर आलोक शर्मा ने भोपाल से ठोकी दावेदारी, कहा- मैं चुनाव लड़ने के लिए तैयार..

ये भी पढ़ें- प्रत्याशियों के फाइनल नाम के लिए करना होगा और इंतजार : कमलनाथ

 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...