लाइव टीवी

1 लाख की चिल्लर लेकर गाड़ी खरीदने पहुंचा व्यापारी, 16 लोगों को गिनने में लगे 7 घंटे

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 14, 2020, 10:38 PM IST
1 लाख की चिल्लर लेकर गाड़ी खरीदने पहुंचा व्यापारी, 16 लोगों को गिनने में लगे 7 घंटे
बैंक अधिकारियों के मना करने के बाद 6 बोरों में चिल्‍लर भरकर शोरूम पहुंचा था चिप्स व्यापारी.

किसी व्यक्ति के पास चिल्लर (coins) नहीं हो तो दिक्कत है और हो तो भी दिक्कत है. भोपाल के एक चिप्‍स व्यापारी के पास इकट्ठी हुई एक लाख रुपए की चिल्‍लर को बैंक ने नहीं लिया और जब एक शोरूम मालिक ने इसे लेने की हामी भरी तो...

  • Share this:
भोपाल. किसी व्यक्ति के पास चिल्लर (coins) नहीं हो तो दिक्कत है और हो तो भी दिक्कत है. ऐसा इसलिए है, क्योंकि जब ज्यादा चिल्लर किसी के पास इकट्ठी हो जाती है, तो उसे बाजार में एक साथ चलाना मुश्किल हो जाता है. यही नहीं, बैंक भी उस चिल्लर को लेने से इनकार कर देता है. जबकि राजधानी भोपाल के चिप्‍स व्यापारी संदीप गुप्ता (Sandeep Gupta) के साथ ऐसा ही हुआ.

चिप्स व्यापारी संदीप गुप्ता के पास...
भोपाल में 12 नंबर बस स्टॉप के पास रहने वाले संदीप गुप्ता चिप्स के व्यापारी हैं. वह बाजार में छोटे-छोटे व्यापारी को चिप्स सप्लाई करते हैं. संदीप को फुटकर दुकानदार अक्सर सिक्कों में ही पेमेंट करते हैं. पिछले छह महीनों के अंदर उनके पास एक लाख रुपये के सिक्के जमा हो गई. जब उन्होंने सिक्कों को बैंक में जमा करने की कोशिश की, तो बैंक अधिकारियों ने इसे जमा करने से साफ इनकार कर दिया.

आरबीआई ने नहीं बताया कोई रास्‍ता

व्यापारी संदीप गुप्ता ने न्यूज़ 18 ने बताया कि उन्होंने बैंक अधिकारियों के सिक्के  लेने से इनकार करने पर आरबीआई के अधिकारियों से संपर्क किया, लेकिन किसी भी अधिकारी ने सिक्कों को लेकर कोई रास्ता नहीं बताया. संदीप का व्यापार के लिए एक पिकअप वाहन की जरूरत थी. इसी पिकअप वाहन के लिए उन्हें डाउन पेमेंट के लिए एक लाख रुपए चाहिए थे.

16 कर्मचारियों को 7 घंटे लगे
संदीप गुप्ता ने पिकअप गाड़ी खरीदी के लिए कई शोरूम की खाक छानी और कई लोगों से संपर्क भी किया. हालांकि लगातार प्रयास करने की वजह से होशंगाबाद रोड स्थित एक शोरूम संचालक ने एक लाख की चिल्लर लेने की सहमति दी. संचालक के हां करने पर जब संदीप किराए के लोडिंग ऑटो से छह बोरों में भरकर एक लाख की चिल्लर लेकर शोरूम पहुंचा, तो कर्मचारियों के होश उड़ गए. सुबह 11 बजे से शाम के सात बज गए, तब जाकर शोरूम से संदीप को पिकअप वाहन मिला. इस चिल्लर को गिनने में शोरूम के 16 कर्मचारी लगे. इन्होंने सात घंटे में एक-एक, दो-दो और पांच-पांच के सिक्कों की एक लाख रुपए की कुल चिल्लर को गिना. 

ये भी पढ़ें-'नटवरलाल' का शिकार होने से बचे MLA आकाश विजयवर्गीय, ये है पूरा मामला

कॉस्मेटिक माफियाओं पर सरकार की टेड़ी नजर, अब करेगी ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 10:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर