देशभर से शहीदों की मिट्टी इकट्ठा करने निकला है यह शख्स, पुलवामा में बनाएगा भारत का नक्शा

बेंगलुरू के उमेश जाधव (Umesh Jadhav) 10 महीनों तक देशभर का भ्रमण कर शहीद स्मारक के निर्माण में करेंगे मदद.

Sharad Shrivastava
Updated: September 12, 2019, 1:58 PM IST
देशभर से शहीदों की मिट्टी इकट्ठा करने निकला है यह शख्स, पुलवामा में बनाएगा भारत का नक्शा
देश के शहीदों के गांवों की मिट्टी इकट्ठा करने निकले हैं बेंगलुरू के उमेश जाधव.
Sharad Shrivastava
Updated: September 12, 2019, 1:58 PM IST
भोपाल. देशभक्ति जाहिर करने के अपने-अपने तरीके हैं. वैसे तो देशभक्ति का कोई पैमाना होता नहीं है लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स से मिलवाने जा रहे हैं जिसकी देशभक्ति का हर कोई मुरीद हो गया है. ये शख्स हैं बेंगलुरू के रहने वाले उमेश जाधव (Umesh Jadhav), जिन्होंने पूरे देश से शहीदों के गांव की मिट्टी इकट्ठा करने का बीड़ा उठाया है. उमेश ने मिट्टी इकट्ठा करने की अपनी यात्रा बेंगलुरू (Bengaluru) से शुरू की थी, जो 11 सितंबर को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल पहुंची. उमेश का मकसद देश के कोने-कोने में जाकर शहीदों के गांव की मिट्टी इकट्ठा कर शहीद स्मारक (Martyrs Memorial) में योगदान देने का है. खास बात ये है कि ये स्मारक पुलवामा में बनाया जाएगा.

5 राज्यों का कर चुके हैं भ्रमण
बेंगलुरु से 9 अप्रैल 2019 को अपनी यात्रा शुरू करने वाले उमेश जाधव अब तक 5 राज्यों में जाकर विभिन्न स्थानों से शहीदों की मिट्टी इकट्ठा कर चुके हैं. केरल, तमिलनाडु, गोवा, पुडुचेरी और महाराष्ट्र की यात्रा के बाद बीते दिनों उमेश मध्य प्रदेश पहुंचे. इसके बाद वे देश के अन्य राज्यों में भी जाकर शहीदों के गांव की मिट्टी इकट्ठा करेंगे. उनका ये सिलसिला 14 फरवरी 2020 तक चलेगा. मिट्टी इकट्ठा करने के बाद उमेश पुलवामा पहुंचेंगे जहां शहीदों के गांव की मिट्टी से भारत का नक्शा बनाएंगे. उमेश ने अपने इस नेक काम के लिए किसी स्पॉन्शर की मदद नहीं ली है. आम लोगों की मदद से ही वो अपना ये काम पूरा करने में लगे हैं.

Umesh Jadhav Bengaluru
उमेश जाधव ने अभी तक 5 राज्यों की यात्रा कर ली है.


सड़क के रास्ते लंबी यात्रा
बेंगलुरू के निवासी उमेश जाधव सड़क के रास्ते शहीदों की मिट्टी इकट्ठा करने निकले हैं. इसके लिए उन्होंने दो गाड़ियों को मोडिफाई किया है. एक गाड़ी जिसमें बैठकर वो यात्रा करते हैं, जबकि उसी के साथ एक और गाड़ी को जोड़ा है जिसे वो रात के या आराम के वक्त अपना आशियाना बनाते हैं. उमेश जाधव अपनी गाड़ी में ही सारे औजार शहीदों के गांव की मिट्टी साथ लेकर चलते हैं. वे बताते हैं कि उनकी गाड़ी में एक तिरंगा भी मौजूद रहता है जो उन्हें हर वक्त प्रेरणा देता है.

Umesh Jadhav Bengaluru
उमेश जाधव ने देश यात्रा के लिए अपने वाहन को मोडिफाई कराया है.

Loading...

युवाओं के लिए संदेश
न्यूज 18 से बातचीत में उमेश जाधव ने बड़े ही साफगोई के साथ अपने इस नेक काम की वजह का खुलासा किया. उन्होंने कहा, 'मुझे भारतीय होने पर गर्व है. वैसे ये काम 1947 में किया जाना चाहिए था. आज के यूथ व्हाट्सएप और फेसबुक में विजी हैं, उन्हें देशभक्ति के लिए कुछ करना चाहिए. मैं ये मिट्टी लेकर पुलवामा जाऊंगा और वहां भारत का नक्शा बनाने में इसका इस्तेमाल होगा.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 1:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...