अपना शहर चुनें

States

MP में एक्सीडेंट में मौत होने पर गैर इरादतन हत्या की धारा लगेगी! PTRI ने पुलिस अधीक्षकों को भेजा सुझाव

मकसद ये है कि हत्या के मामले में जिस तरीके की सजा होती है, यदि वैसी ही सजा रोड एक्सीडेंट के मामलों में होने लगे तो लोग संभलकर गाड़ी चलाएंगे
मकसद ये है कि हत्या के मामले में जिस तरीके की सजा होती है, यदि वैसी ही सजा रोड एक्सीडेंट के मामलों में होने लगे तो लोग संभलकर गाड़ी चलाएंगे

Accidents के केस की यदि गंभीरता से जांच की जाए और पुलिस हत्या (Murder) के समान दंड वाली गैर इरादतन हत्या की धारा लगाए तो आरोपियों को कड़ी सजा मिल सकती है

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश (MP) में पीटीआरआई (PTRI) के उस निर्देश और सुझाव पर यदि अमल होता है तो एक्सीडेंट में होने वाली मौत के मामलों की जांच भी हत्या की जांच की तरह ही होगी.यानि पुलिस जिस तरह हत्या के मामलों की जांच करती है ठीक उसी तकनीक का इस्तेमाल रोड एक्सीडेंट में होने वाली मौतों के मामले में किया जाएगा.

इसके पीछे मकसद ये है कि हत्या के मामले में जिस तरीके की सजा होती है, यदि वैसी ही सजा रोड एक्सीडेंट के मामलों में होने लगे तो लोग संभलकर गाड़ी चलाएंगे. दुर्घटनाओं में कमी आएगी और जनता में एक सकारात्मक मैसेज जाएगा.

PTRI का सुझाव
पीटीआरआई जो पुलिस का एक शोध संस्थान है उसके एडीजी डीसी सागर ने कहा यह बहुत ही संवेदनशील मामला है. क्योंकि सभी लोगों की जिंदगी अनमोल है. सभी को ट्रैफिक नियमों का पालन करना चाहिए. यदि कोई दुर्घटना हो गई और उसमें मृत्यु होती है तो उस प्रकरण की विवेचना एक मर्डर के मामले की तरह फॉरेंसिक साइंस दृष्टिकोण से होनी चाहिए. तकनीकी दृष्टिकोण से होना चाहिए. नक्शा मौका ढंग से बनना चाहिए. साक्षी सही होना चाहिए और विवेचना को लेकर जो गंभीरता हत्या जैसे जघन्य अपराधों में होती है वही गंभीरता ऐसे हादसे में होनी चाहिए.




सजा से सबक
डीसी सागर ने बताया कि यदि गंभीरता से विवेचना करेंगे तो साक्ष्य के आधार पर आरोपियों को कड़ा दंड मिलेगा. और यदि दंड मिलते हैं तो जो लोग ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं करते उनके अंदर ही भाव आएगा कि गाड़ी संभलकर चलाना है वरना सजा हो सकती है.

गैर इरादतन हत्या की धारा
अधिकांश सड़क हादसों में लापरवाही से वाहन चलाने की धाराओं में एफ आई आर होती है. ऐसी धाराओं में FIR होने से आरोपी या तो थाने से मुचलके पर छूट जाता है या फिर कोर्ट से उसे आसानी से जमानत मिल जाती है. लेकिन यदि गंभीरता से जांच की जाए और पुलिस हत्या के समान दंड वाली गैर इरादतन हत्या की धारा लगाए तो आरोपियों को कड़ी सजा मिल सकती है.लेकिन ऐसे मामलों में सजा दिलाने के लिए पुलिस को गंभीरता से जांच करनी पड़ेगी और मर्डर के केस की तरह साक्ष्य जुटाना पड़ेगा. क्योंकि मर्डर जैसे मामले में सबूत जुटाने में काफी गंभीरता और मेहनत लगती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज