लाइव टीवी

प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स मरीजों के साथ कर रहे हैं खिलवाड़, स्वास्थ्य विभाग ने लिया ये एक्‍शन

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 29, 2019, 4:43 PM IST
प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स मरीजों के साथ कर रहे हैं खिलवाड़, स्वास्थ्य विभाग ने लिया ये एक्‍शन
लैब्‍स बिना लाइसेंस और राइट टेस्ट के जारी कर रहे हैं रिपोर्ट.

भोपाल (Bhopal) में प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स(Private Pathology Labs) का धंधा ज़ोर शोर से चल रहा है. अवैध रूप से चल रहे ये पैथोलॉजी लैब आम लोगों के लिए बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं. यह लैब्स रैपिड टेस्ट के आधार पर मरीज़ों को इलाज की सलाह देते हैं, जो कि गलत है. अब स्वास्थ्य विभाग (Health Department) एक्शन में आ गया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स(Private Pathology Labs) का धंधा ज़ोर शोर से चल रहा है. जबकि बदलते मौसम के साथ बढ़ती मरीज़ों की संख्या इन लैब्स के धंधे को और धड़ल्ले से बढ़ा रही है. यही नहीं, अवैध रूप से चल रहे ये पैथोलॉजी लैब आम लोगों के लिए बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं. फिलहाल इस बात का संज्ञान लेते हुए स्वास्थ्य विभाग (Health Department) अब एक्शन मोड में आ चुका है और लैब्‍स के काले धंधे को रोकने की कोशिश कर रहा है.

सीएमएचओ ने लोगों से की ये अपील
इसी कड़ी में आज भोपाल जिला के सीएमएचओ सुधीर डहेरिया (CMHO Sudhir Daheria) ने राजधानी के कई प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स का निरक्षण किया. इस दौरान सीएमएचओ ने जनता से अपील करते हुए कहा की जांच वैलिड टेस्ट से ही कराएं. दरअसल इन दिनों प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स रैपिड टेस्ट के आधार पर मरीज़ों को इलाज की सलाह देती हैं, जो कि एकदम गलत है. यही नहीं, ELISA टेस्ट के बिना मरीज़ों को डेंगू, मलेरिया और चिकुनगुनिया पीड़ित बताते हैं. तमाम खामियों मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने लैब बंद कराने को नोटिस जारी किया है.

अधिकारी ने किया ये खुलासा

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने बताया कि प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स की जांच रिपोर्ट के आधार पर जिन मरीज़ों को रिपोर्ट में डेंगू और मलेरिया पीड़ित बताया गया था सरकारी अस्पताल की जांच में वो मरीज़ बीमारी रहित बताए गए. इस बात के सामने आते ही स्वास्थ्य अमला लोगों को जागरूक करने निकल पड़ा है.

निरीक्षण सामने आई ये बात
>>अप्रशिक्षित टेक्नीशियन का अड्डा हैं पैथोलॉजी लैब्स.
Loading...

>>बिना लाइसेंस के चलाए जा रहे हैं प्राइवेट पैथोलॉजी लैब्स.
>>रैपिड टेस्ट के आधार पर देते हैं गलत रिपोर्ट. इससे मरीज गुमराह होते हैं.
>>सस्ते टेस्ट की मनमानी फीस वसूलते हैं पैथोलॉजी लैब्स.

ये भी पढ़ें-
विधान परिषद के गठन को लेकर BJP ने कांग्रेस पर कसा तंज, कहा- अपने ही कुनबे को संतुष्‍ट करने की कवायद

भाईदूज पर मायके जाने की ज़िद कर रही थी पत्नी, पति ने किया ACID ATTACK

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 4:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...