अपना शहर चुनें

States

Bhopal : दिल्ली में हुई हिंसा की चौतरफा निंदा, अराजकता के खिलाफ साथ आए बीजेपी-कांग्रेस

कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर AP/Dinesh Joshi)
कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर AP/Dinesh Joshi)

Bhopal : कांग्रेस (Congress) ने कहा लाल किले (Red fort) पर आराजकता फैलाने वालों पर कार्रवाई होना चाहिए. उपद्रवियों की अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई इसका जवाब भी सरकार को देना चाहिए.

  • Share this:
भोपाल. गणतंत्र दिवस (Republic day violence) पर दिल्ली में हुई हिंसा और अराजकता पर मध्य प्रदेश में भी तीखी निंदा हुई है. कांग्रेस (Congress) हो या बीजेपी (BJP) सबने एक सुर से कहा है कि अराजकता बर्दाश्त नहीं की जा सकती. कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा और अराजकता पर मध्य प्रदेश में भी सियासी पारा चढ़ गया है. हालांकि लाल किले पर हुई अराजकता के खिलाफ सियासी दल एकमत हैं. पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने दिल्ली के लाल किले में हुई घटना की निंदा की है. पूर्व मंत्री पटवारी ने कहा इस तरह की अराजकता को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना भी साधा. पटवारी ने किसान आंदोलन को साधने में केंद्र सरकार को फेल बताया. पटवारी ने कहा किसान आंदोलन पवित्र है. लाल किले पर आराजकता फैलाने वालों पर कार्रवाई होना चाहिए. उपद्रवियों की अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई इसका जवाब भी सरकार को देना चाहिए. कांग्रेस विधायक पटवारी ने किसान आंदोलन को कांग्रेस का अप्रत्यक्ष तरीके से समर्थन जारी रखने की बात कही है.

किसानों को भड़काने का आरोप
वहीं प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने दिल्ली की घटना की निंदा करते हुए कहा एक वर्ग विशेष नहीं चाहता कि किसान आत्मनिर्भर बनें. केंद्र सरकार के कृषि बिल किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हैं.दिल्ली के लाल किले पर अराजकता फैलाने वालों के खिलाफ केंद्र सरकार को सख्त कार्रवाई करना चाहिए.पटेल ने कांग्रेस और दूसरे विपक्षी दलों पर किसानों को भड़काने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा विपक्षी दल शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे असामाजिक तत्वों के खिलाफ सरकार को सख्ती से निपटना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज