निर्मोही मां ने 9 माह की मासूम को तालाब में फेंका, अब प्रेमी के साथ जेल, रिकॉर्ड समय में चार्जशीट दाखिल

इस केस में बच्ची की मां और उसका प्रेमी ही आरोपी निकले
इस केस में बच्ची की मां और उसका प्रेमी ही आरोपी निकले

ये मामला प्रेम प्रसंग (Love) का है. आरोपी मां ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर बच्ची की हत्या (Murder) कर दी थी.

  • Share this:
भोपाल. राजधानी में एक मां ऐसी निर्मोही हुई कि प्रेमी के साथ भागने के लिए उसने अपनी 9 माह की मासूम को तालाब में फेंक कर मार डाला. इस मामले को पुलिस ने गंभीरता से लिया और तेजी दिखाते हुए सिर्फ 17 दिनों में हत्यारे प्रेमी जोड़े के खिलाफ भोपाल जिला कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी. मामले में पुलिस अधिकारियों की स्पेशल टीम ने काम किया और चार्जशीट तैयार की. अब पुलिस हर साक्ष्य और गवाहों को जुटाकर आरोपियों को सजा दिलवाने के लिए एक महीने का टार्गेट रखकर काम कर रही है.

तालाब में मिला था शव
पिछले महीने 18 सितंबर को तलैया थाना क्षेत्र में 9 महीने की मासूम बच्ची का शव बड़े तालाब में मिला था. भोपाल एडीजी उपेंद्र जैन ने इस मामले को गंभीरता से लिया और मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम बना दी थी. उपेंद्र जैन ने निर्देश दिए थे कि इस मामले में जल्द से जल्द आवश्यक वैधानिक कार्रवाई पूरी की जाए, ताकि आरोपियों को सज़ा दिलाने का रास्ता साफ हो सके.

प्रेमी जोड़ा गिरफ्तार
इस मामले में आरोपी सोनम चौरसिया और उसके प्रेमी शिवम कुशवाहा को गिरफ्तार किया गया था. दोनों आरोपी फिलहाल जेल में बंद हैं. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ था कि बच्ची की मौत शरीर पर चोट आने और पानी में डूबने के कारण हुई है.


प्रेमी के चक्कर में मां ने फेंकी बच्ची
ये मामला प्रेम प्रसंग का है. आरोपी सोनम चौरसिया औबेदुल्लगंज में शादी हुई थी. शादी के बाद उसकी ये बच्ची हुई थी. लेकिन इस बीच सोनम शिवम कुशवाहा के प्यार में पड़ गयी और पति को बताए बिना बच्ची को लेकर घर से भाग गयी. अपने प्रेम के रास्ते में बच्ची से छुटकारा पाने के लिए उसने शिवम के साथ मिलकर बच्ची को भोपाल के बड़े तालाब में फेंक दिया था. बच्ची की इससे मौत हो गयी.



255 पेज की चार्जशीट
17 दिन के अंदर पुलिस ने इस पूरे मामले की जांच कंप्लीट की और मामले में 255 पेज की चार्जशीट तैयार कर कोर्ट में पेश कर दी. इस साल का यह पहला मामला है जिसमें पुलिस ने इतनी तेज गति से जांच करने के बाद चार्जशीट कोर्ट में पेश की. वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश के बाद स्पेशल टीम अब कोर्ट में आरोपियों को सजा दिलाने के लिए डे टू डे सुनवाई कराने की कोशिश कर रही है. स्पेशल टीम ने टारगेट बनाया है कि एक महीने में इस मामले में उसकी तरफ से सारे सबूत और गवाह अदालत में पेश कर दिए जाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज