CM की अफसरों को दो टूक : कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ना ही होगी, ज़रूरी हो तो सख्ती करें

cm शिवराज ने 18 ज़िलों के अफसरों के साथ कोरोना समीक्षा बैठ.क की

cm शिवराज ने 18 ज़िलों के अफसरों के साथ कोरोना समीक्षा बैठ.क की

Bhopal. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन कराया जाए. इंजेक्शन उसे मिले जिसे जरूरत हो. और उतने ही सप्लाई किये जाएं जितनी आवश्यकता हो

  • Share this:
भोपाल. सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) ने आज भोपाल में कोरोना के हालात की समीक्षा के लिए 18 जिलों के अफसरों के साथ वर्च्युअल समीक्षा बैठक की. उन्होंने कहा संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सख्ती ज़रूरी है. सभी को अपनी अपनी जिम्मेदारी निभानी पड़ेगी. कोरोना गाइड लाइन (Guideline) का सख्ती से पालन करें. जनता को जागरूक कर कर्फ्यू का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराना ही होगा.

सीएम ने कहा जनता कर्फ्यू कोई लॉकडाउन नहीं है. जनता का स्वयं संक्रमण से सुरक्षा के लिए लिया गया निर्णय है. प्रदेश की लगभग 90 प्रतिशत ग्राम पंचायतें, अपने गांवों में कोरोना कर्फ्यू लगाने का खुद ही संकल्प ले चुकी हैं.

संक्रमण की चेन तोड़ने लक्ष्य निर्धारित

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा किसी भी कीमत पर संक्रमण की चेन तोड़ना है. इसके लिए उन्होंने अफसरों से लक्ष्य निर्धारित करने के लिए कहा. सीएम ने कहा -
-जिलों में पॉजिटिविटी दर को तेजी से घटाना है.

-जहां-जहां संक्रमण अधिक है वहां माइक्रो कन्टेनमेंट एरिया बनाए जाएंगे.

-होम आइसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में ही लोगों को स्वस्थ करने का लक्ष्य रखें.



-कोरोना कर्फ्यू में सख्ती बढ़ाकर लोगों का अनावश्यक मूवमेंट बंद किया जाए

-किल कोरोना अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन कर हर संभावित मरीज की पहचान करना होगी

-अस्पताल में बेड्स, ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें.

-नागरिकों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि और किल कोरोना-2 अभियान को प्राथमिकता दें.

ज्यादा संक्रमण दर वाले जिलों में किल कोरोना अभियान 2

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा जिलों के जिन क्षेत्रों में संक्रमण दर अधिक है, वहां किल कोरोना अभियान-2 चलाया जा रहा है. रीवा, सीहोर, सतना, रायसेन, दतिया, अनूपपुर, नीमच, शिवपुरी, नरसिंहपुर और श्योपुर आदि जिलों में अभियान जारी है. संक्रमण प्रभावित क्षेत्रों में माइक्रो कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर संक्रमण को वहीं रोकना होगा. सर्वे में संभावित मरीजों को तत्काल मेडिकल किट और सावधानी संबंधी ब्रोशर उपलब्ध करावाकर होम आईसोलेट कराएं.

होम आइसोलेशन और कोविड सेंटर्स पर ज़ोर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा प्रदेश में आज तक 69 हजार मरीज होम आइसोलेटेड हैं. प्रयास यह होना चाहिए कि मरीजों को अस्पताल ले जाने की जरूरत नहीं पड़े. वे होम आईसोलेशन में ही ठीक हो जाएं. होम क्वारेंटीन और कोविड केयर सेंटर में मरीजों की देखभाल के लिए उनसे लगातार संवाद रखें. जिन क्षेत्रों में संक्रमण दर अधिक है वहां माइक्रो प्लानिंग कर माइक्रो कन्टेन्मेंट एरिया बनाएं. नए केस नहीं बढ़ने देना है, जहां कोरोना हो वहीं उसे खतम करें.



रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन की आपूर्ति पर रखे नज़र

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन कराया जाए. अनावश्यक रूप से इंजेक्शन की मांग पर अंकुश लगाकर, इंजेक्शन उसे मिले जिसे जरूरत हो. और उतने ही सप्लाई किये जाएं जितनी आवश्यकता हो. सप्लाई एवं वितरण की अनावश्यक प्रतिस्पर्धा की प्रवृति जिले नहीं रखें. जितनी आवश्यकता हो उतनी ही मांग रखें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज