Assembly Banner 2021

राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा में जीतू पटवारी के बिगड़े बोल, मंत्रियों के लिए कह दी ऐसी बात

जीतू पटवारी के बयान पर सदन में शोर-शराबा हुआ.

जीतू पटवारी के बयान पर सदन में शोर-शराबा हुआ.

Bhopal : जीतू पटवारी के बयान पर सदन में हंगामा हो गया. बीजेपी विधायकों ने हंगामा किया और इसके बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गयी.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (MP) विधानसभा (Assembly) में राज्यपाल के अभिभाषण की चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता जीतू पटवारी के बिगड़े बोल सामने आए.उन्होंने चर्चा में मंत्री तुलसी सिलावट के लिए आफत्तिजनक शब्द कह दिया और मंत्री विजय शाह पर विद्या बालन के साथ डिनर के नाम पर तंज कसा.इस पर तुलसी सिलावट ने विधानसभा अध्यक्ष से इन बिगड़े बोल को विलोपित करने का निवेदन किया.

सदन में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी राज्यपाल के अभिभाषण की चर्चा में शामिल हुए.उन्होंने अपने संबोधन में कहा सरकार का फेल्युअर राज्यपाल के अभिभाषण में था. कोरोना के साथ लोकतांत्रिक महामारी प्रदेश में पैदा की. महिला अपराध बढ़े हैं.हमारे कार्यकाल से ज्यादा आपके 11 महीने में ट्रांसफर हुए. यह सरकार नहीं सर्कस है.

सिलावट, शाह पर टिप्पणी
पटवारी के संबोधन पर सदन में हंगामा हो गया. इस बीच मंत्री तुलसी सिलावट और मंत्री विजय शाह ने भी रोका टोकी की.इस पर पटवारी ने मंत्री तुलसी सिलावट को बिकाऊ बता दिया.साथ ही उन्होंने मंत्री विजय शाह के विद्या बालन के साथ डिनर पर भी तंज कसा.पटवारी ने कहा केंद्र की रिपोर्ट ने मप्र को भ्रष्टाचार का तमगा दिया है.परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत ने सीधी बस हादसे में 54 लोगों की मौत के लिए भोजन नहीं करने का प्रण लेकर प्रायश्चित्त किया.जीतू पटवारी के बयान पर सदन में हंगामा हो गया. बीजेपी विधायकों ने हंगामा किया और इसके बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गयी.
सदन में 7 संशोधन विधेयक पेश


सदन में 7 संशोधन विधेयक पेश किए गए.इनमें भोज मुक्त विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक, डॉक्टर बी आर अंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक, पंडित एसएन शुक्ला विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक, मध्य प्रदेश निजी विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक, मध्यप्रदेश लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी संशोधन विधेयक, मध्य प्रदेश सिंचाई प्रबंधन में कृषकों की भागीदारी संशोधन विधेयक, मध्यप्रदेश सिविल न्यायालय संशोधन विधेयक मंत्रियों ने पेश किए.सदन में सर्वसम्मति से सभी सात विधेयक पास हो गए.

भूरिया की सुरक्षा पर हंगामा
सदन में कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया ने  सुरक्षा मांगी.उन्होंने खुद की जान को खतरा बताया.उन्होंने कहा पूर्व विधायक नागर सिंह चौहान को सुरक्षा दी गई और मुझे धमकी दी जा रही है.इस पर सदन में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया.विपक्ष ने नागर सिंह चौहान की गिरफ्तारी की मांग की. इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  सुरक्षा देने का आश्वासन दिया.गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा यह लोकल राजनीति का मामला है. सदस्य की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है.

जितेंद्र डागा का मुद्दा उठाया
कांग्रेस नेता जितेंद्र डागा के अवैध निर्माण तोड़ने का मुद्दा सदन में गूंजा. यह मामला पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने उठाया.शर्मा ने कहा बदले की भावना से कार्रवाई हो रही है.ये परंपरा गलत है.वहीं कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह ने सदन में चिटफंड कंपनियों का मुद्दा उठाया.उन्होंने उच्च स्तरीय कमेटी बनाने की मांग की. मंत्री अरविंद भदौरिया ने इसका जवाब दिया.उन्होंने कहा शिकायत होने पर जांच कराने के बाद कार्रवाई होती है.उच्च स्तरीय कमेटी बनायी जाएगी.यह कमेटी जांच करेगी.दोषियों को नहीं बख्शा नहीं जाएगा.समय पर कार्रवाई हो इस पर निर्णय लिया जाएगा.

दिव्यांग बच्चों का मामला गूंजा
बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसौदिया ने दिव्यांग बच्चों को कृत्रिम अंग समय पर नहीं उपलब्ध होने का सवाल उठाया.इस पर मंत्री भारत सिंह कुशवाहा ने जवाब दिया.उन्होंने बताया कि जिस कंपनी की जिम्मेदारी है, उसकी जांच कराई जाएगी। लापरवाही पाये जाने पर कार्रवाई होगी.यह सुनिश्चित करेंगे समय पर कृत्रिम अंग बच्चों को मिल सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज