भोपाल गैंगरेप : आरोपियों की डीएनए रिपोर्ट में भी हुई गैंगरेप की पुष्टि, जल्द पेश होगा चालान

Arun Kumar Trivedi | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: November 15, 2017, 10:12 AM IST
भोपाल गैंगरेप : आरोपियों की डीएनए रिपोर्ट में भी हुई गैंगरेप की पुष्टि, जल्द पेश होगा चालान
गैंगरेप के आरोपी
Arun Kumar Trivedi | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: November 15, 2017, 10:12 AM IST
भोपाल में पीएससी की कोचिंग कर रही छात्रा के साथ गैंगरेप के मामले में चारों आरोपियों की डीएनए रिपोर्ट में भी गैंगरेप की पुष्टि हो गई है. जीआरपी अगले तीन-चार दिन में विवेचना पूरी कर आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश कर सकती है.

छात्रा के साथ 31 अक्टूबर को हबीबगंज स्टेशन के पास चार बदमाशों ने सामूहिक दुष्कर्म किया था. छात्रा को मृत समझकर बदमाश उसे छोड़कर कर भाग गए थे. 24 घंटे बाद पीड़िता की शिकायत पर जीआरपी हबीबगंज थाना ने रमेश उर्फ राजू मेहरा, गोलू उर्फ बिहारी, अमर उर्फ गुल्टू और राजेश उर्फ चेतराम के खिलाफ मामला दर्ज किया था. पीड़िता चारों आरोपियों की पहचान कर चुकी है. आरोपियों के सैंपल डीएनए टेस्ट के लिए एफएसएल भेजे गए थे. जिसकी रिपोर्ट जीआरपी को मिल गई है.

डीएनए रिपोर्ट में आरोपियों के खिलाफ सबसे महत्वपूर्ण साक्ष्य हैं. महिला अपराध शाखा एडीजी अरुणा मोहन राव का कहना है कि सभी पक्षों के बयान दर्ज हो चुके हैं. अगले तीन-चार दिन में कोर्ट में चालान पेश कर दिया जाएगा.

इससे पहले मंगलवार को ही गैंगरेप के मामले में महिला आयोग ने तल्ख टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि गैंगरेप को झूठा साबित करने का प्रयास किया गया है, जो अपराध की श्रेणी में आता है. आयोग ने मेडिकल रिपोर्ट में हुई गड़बड़ी को गंभीर लापरवाही की श्रेणी में रखते हुए मेडिकल प्रशासन को दोषी माना है. उन्होंने रिपोर्ट में गड़बड़ी करने वाले सुल्तानिया अस्पताल की दोनों डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन रद्द करने की अनुशंसा की है. आयोग ने सुल्तानिया अस्पताल अधीक्षक करण पीपरे को जमकर फटकार लगाई है. उन्होंने कहा, जिम्मेदारी भरे पद पर रहते हुए डॉक्टरों की रिपोर्ट में गड़बड़ी को कैसे नजरअंदाज कर दिया गया.
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर