MP में 540 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई, जानिए कैसे और कहां से पहुंची मदद

सरकार का दावा है कि mp में 
471 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग थी

सरकार का दावा है कि mp में 471 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग थी

MP News: सरकार का दावा है कि 28 अप्रैल को मध्य प्रदेश के विभिन्न शहरों में ट्रेन और टैंकरों के जरिये 540 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंचाई गई. कोरोना संक्रमितों के लिए यह राहत वाली खबर है.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना आपदा के बीच मध्य प्रदेश सरकार का दावा है कि प्रदेश में मांग से ज़्यादा ऑक्सीजन (Oxygen) सप्लाई की जा रही है. 28 अप्रैल को ऑक्सीजन सप्लाई के बाद सरकार ने जो आंकड़े जारी किए उसके मुताबिक एमपी में 471 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग थी, लेकिन सप्लाई 540 मीट्रिक टन की गई. सरकार का दावा है कि 28 अप्रैल को मध्य प्रदेश के विभिन्न शहरों में ट्रेन और टैंकरों के जरिये 540 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंचायी गई. यह ऑक्सीजन कोरोना मरीजों के लिए मददगार साबित हो रही है.

28 अप्रैल को 6 टैंकरों से 107 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भोपाल पहुंची. इसमें से विदिशा जिले के लिए 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लेकर टैंकर पहुंचा है.

-ग्वालियर के लिये 4 टैंकरों से 50 मीट्रिेक टन

-इंदौर के लिए 6 टैंकरों से 119.5 मीट्रिक टन
- जबलपुर के लिए 3 टैंकरों से 53 मीट्रिक टन

- रीवा के लिए 3 टैंकरों से 47 मीट्रिक

-सागर के लिए 2 टैंकरों से 30 मीट्रिक टन



- कटनी के लिए 2 टैंकरों से 15 मीट्रिक टन

- शहडोल के लिए एक टैंकर से 10 मीट्रिक टन

-छिंदवाड़ा के लिए एक टैंकर से 16.5 मीट्रिक टन

- रतलाम के लिए एक टैंकर से 16.5 मीट्रिक टन

- दतिया के लिए एक टैंकर से 5 मीट्रिक टन

- खण्डवा के लिए एक टैंकर से 10 मीट्रिक टन

- उज्जैन के लिए 2 टैंकरों से 26 मीट्रिक टन

- शिवपुरी के लिए एक टैंकर से 4.5 मीट्रिक टन

- छतरपुर के लिए एक टैंकर से 4.5 मीट्रिक टन

- मंडीदीप रायसेन के लिए एक टैंकर से 10 मीट्रिक टन और सतना जिले के लिए एक टैंकर से 6.2 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुँचाई गई.

मांग से अधिक आपूर्ति का दावा

भोपाल जिले में 93 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है, जबकि यहां के लिए 107 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटित की गयी है. इसमें से 80 मीट्रिक टन बोकारो, 10 मीट्रिक टन कर्जन और 17 मीट्रिक टन लिण्डे भिलाई से आई.

- इंदौर में 113 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत के विरूद्ध 119.5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटित की गयी है. इसमें से 88 मीट्रिक टन रिलायंस जामनगर, 6 कर्जन और 25.5 मीट्रिक टन लिण्डे भिलाई से पहुंची.

- इसी तरह जरूरत के आधार पर विदिशा में 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन कर्जन से आई है.

- ग्वालियर में 43.7 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत के विरूद्ध 50 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटित की गई है. इसमें से 17 मीट्रिक टन बोकारो, 18 मीट्रिक टन मोदीनगर और 15 मीट्रिक टन भिलाई से आई.

- जबलपुर में 47 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है, जबकि 53 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटित की गयी है. इसमें से 11 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बोकारो, 21.2 मीट्रिक टन आर.एस.पी और 20.68 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बी.एस.पी भिलाई से आई.

- रीवा में 30 मीट्रिक टन की जरूरत थी लेकिन सप्लाई 47 मीट्रिक टन ऑक्सीजन हुई. इसमें से 30 मीट्रिक टन बोकारो और 17 मीट्रिक टन लिंडे भिलाई से ऑक्सीजन पहुंची.

-सागर में 30 मीट्रिक टन की जरूरत है और इतनी ही ऑक्सीजन दी गयी. यहां पर 20 मीट्रिक टन वीएसपी भिलाई और 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बोकारो से भेजी गयी.

- कटनी में 6 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत के विरूद्ध 15 मीट्रिक टन आवंटित की गयी है. इसमें से लिण्डे भिलाई से 10 और जेएसपीएल अंगुल से 5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंची.

- शहडोल में 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन जेएसपीएल अंगुल से

-छिंदवाड़ा में 16.5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लिण्डे भिलाई से

- रतलाम में 16 मीट्रिक टन ऑक्सीजन रिलायंस जामनगर से

-दतिया में 5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बोकारो से

- खण्डवा में 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन कर्जन से

- उज्जैन में 26 मीट्रिक टन ऑक्सीजन जामनगर से पहुंची.

- शिवपुरी में 4.5 मीट्रिक टन जी.एस.पी.एल अंगुल से

- छतरपुर में 4.5 मीट्रिक टन जेएसपीएल अंगुल से

- मंडीदीप में 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लिण्डे भिलाई से

- और सतना में 6.2 मीट्रिक टन ऑक्सीजन जेएसपीएल अंगुल से पहुंचाई गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज