अपना शहर चुनें

States

ड्रग माफिया पर नकेल : मध्यप्रदेश में बंद होंगे हुक्का बार, 800 से ज़्यादा लाउंज अवैध

सीएम शिवराज के निर्देश पर ड्रग माफिया पर शिकंजा कसा जा रहा है.
सीएम शिवराज के निर्देश पर ड्रग माफिया पर शिकंजा कसा जा रहा है.

ड्रग्स माफिया (Drug Mafia) की चपेट में मध्यप्रदेश के 15 जिले हैं.इंदौर, उज्जैन, मंदसौर, नीमच, भोपाल, जबलपुर, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, रतलाम, ग्वालियर, सतना, सागर, दतिया,रीवा, विदिशा, पिपरिया, आगर- मालवा में नशीली वस्तुओं का कारोबार सबसे ज्यादा हो रहा है.

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश (MP) में हुक्का लाउंज बंद होंगे. सीएम शिवराज सिंह (CM Shivraj) ने हुक्का लाउंज बंद करने के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दे दिए हैं. पुलिस इसके लिए प्रशासन की टीम के साथ मिलकर विशेष अभियान चलाएगी.

सीएम शिवराज सिंह चौहान इन दिनों प्रदेश के आला अधिकारियों के साथ धुआंधार मैराथन बैठकें कर रहे हैं. बुधवार की मैराथन वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद आज फिर उन्होंने मंत्रालय में  पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक ली. इस बैठक में ड्रग्स माफिया को खत्म करने की रणनीति तैयार की गई. साथ ही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने  विशेष अभियान चलाकर प्रदेश में हुक्का लाउंज बंद करने के निर्देश भी दिए. एक जानकारी के अनुसार प्रदेश में 800 हुक्का लाउंज इस समय चल रहे हैं. इनमें से सबसे ज्यादा हुक्का बार प्रदेश के चार महानगरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में हैं.

केमिकल ड्रग्स खतरनाक
प्रदेश में 15 से 22 दिसंबर तक नशा विरोधी विशेष अभियान चलाया जाएगा. शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि केमिकल ड्रग्स सबसे ज्यादा खतरनाक होते हैं.इंदौर में केमिकल ड्रग सप्लाई का बड़ा मामला सामने आ चुका है.भोपाल, विदिशा, भिंड, उज्जैन, रतलाम आदि में स्मैक सप्लाई के मामले सामने आए. हुक्का बार का कोई लाइसेंस नहीं होता है. यह खाद्य विभाग के अंतर्गत आता है, लेकिन नगर निगम इसकी परमिशन देता है. सबसे बड़ा घालमेल विभागों के तालमेल में होता है. यही कारण है कि मध्यप्रदेश में हुक्का बार का कारोबार बड़ी तेजी से फल-फूल रहा है. इसकी आड़ में नशा परोसे जाने की खबरें भी आती रहती हैं.
ड्रग माफिया पर शिकंजा


राजधानी भोपाल में 10 माफिया के खिलाफ शिकंजा कसा जा रहा है. एडिशनल एसपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि हर थाने में ड्रग्स माफिया के खिलाफ स्पेशल टीम काम कर रही हैं.इसकी खुद एडीजी, डीआईजी और एसपी मॉनिटरिंग कर रहे हैं. पिपलानी में 3 दिन में 13 ड्रग माफिया के केस सामने आए थे. पिपलानी इलाके से 3 क्विंटल से ज्यादा गांजा बरामद किया गया.

ड्रग्स माफिया की चपेट में मध्यप्रदेश के 15 जिले हैं. भारत सरकार के नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने प्रदेश के 15 जिलों की सूची शासन को भेजी है. इंदौर, उज्जैन, मंदसौर, नीमच, भोपाल, जबलपुर, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, रतलाम, ग्वालियर, सतना, सागर, दतिया,रीवा, विदिशा, पिपरिया, आगर- मालवा में नशीली वस्तुओं का कारोबार सबसे ज्यादा हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज