BHOPAL : बिन ब्याही बेटी की बच्ची को पैदा होते ही नाना-नानी ने ब्लेड और चाकू से मार डाला

19 साल की अनमैरिड बेटी ने इस बच्ची को जन्म दिया था
(Symbolic Pic)
19 साल की अनमैरिड बेटी ने इस बच्ची को जन्म दिया था (Symbolic Pic)

28 सितंबर की सुबह 6:00 बजे अयोध्या नगर थाना पुलिस (police) को सूचना मिली कि जी सेक्टर स्थित शिव मंदिर परिसर में शॉल में लिपटी खून से लथपथ नवजात बच्ची (newborn) की लाश पड़ी है

  • Share this:
भोपाल.राजधानी भोपाल (Bhopal) में हत्या (Murder) के एक सनसनीखेज मामले का खुलासा हुआ है. ये एक नवजात बच्ची की हत्या का मामला है. खुलासा हुआ है कि बच्ची की हत्या उसके नाना और नानी ने चाकू और ब्लेड मार कर की थी. इसकी वजह ये थी कि वो उनकी बिन ब्याही बेटी की औलाद थी.

भोपाल में चार दिन पहले एक नवजात बच्ची की लाश मिलने से सनसनी फैल गई थी. पुलिस ने दिन-रात एक कर इस बच्ची के हत्यारों  को सलाखों के पीछे भेज दिया. बच्ची की हत्या पैदा होते ही उसके नाना नानी ने चाकू और ब्लेड से कर दी थी.

मंदिर के चबूतरे पर पड़ी थी नवजात की लाश
28 सितंबर की सुबह 6:00 बजे अयोध्या नगर थाना पुलिस को सूचना मिली कि जी सेक्टर स्थित शिव मंदिर परिसर में शॉल में लिपटी खून से लथपथ नवजात बच्ची की लाश पड़ी है. मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्ची की लाश बरामद कर FIR दर्ज की. बच्ची के पूरे शरीर पर गहरे ज़ख्म थे. पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ हत्या की धारा में केस दर्ज किया था.इस केस की जांच के लिए पांच स्पेशल टीम बनाई गयीं. इन टीमों ने थाना क्षेत्र में आने वाले अस्पतालों और आसपास के लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले.
अवैध संबंध से बेटी हुई गर्भवती


बच्ची 2 दिन की थी इसलिए पुलिस ने 20 से लेकर 27 सितंबर तक पैदा हुए बच्चों की जानकारी जुटाई. पुलिस को तमाम अहम सबूत मिले. इन्हीं सबूतों के आधार पर पुलिस को पता चला कि आरोपी विद्या बाई की 19 साल की बेटी का एक युवक से प्रेम प्रसंग था. अवैध संबंध की वजह से जनवरी में लड़की गर्भवती हो गई.आरोपी विद्या बाई और उसके पति पूरन सिंह अहिरवार ने स्थानीय अस्पताल में 3 महीने पहले लड़की की जांच कराई तब पता चला कि उसे 6 माह का गर्भ है.

बिन ब्याही बेटी बनी मां
6 महीने होने के कारण बेटी का गर्भपात नहीं कराया जा सकता था. इसलिए आरोपियों ने 9 महीने पूरे होने का इंतज़ार किया और घर पर ही बेटी की डिलीवरी करा दी. आरोपी विद्या बाई दाई का काम जानती थी इसलिए उसने 27 सितंबर की रात 1:00 बजे बेटी की डिलीवरी कराई. पैदा होते ही विद्या बाई और उसके पति ने नवजात बच्ची को ब्लेड और चाकू से मार-मार कर घायल कर दिया. उसे तीन घंटे तक अयोध्या नगर स्थित झुग्गी में रखा.खून बहने के कारण नवजात बच्ची की तुरंत ही मौत हो गयी. इसके बाद आरोपी बच्ची को शॉल में लपेट कर शिव मंदिर के चबूतरे पर फेंक कर भाग गए. पुलिस ने बच्ची की नानी आरोपी विद्या और नाना पूरन सिंह को गिरफ्तार कर उनके पास से हत्या में इस्तेमाल चाकू और ब्लेड बरामद कर लिए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज