Home /News /madhya-pradesh /

MP NEWS : जूनियर डॉक्टर्स की फिर से हड़ताल शुरू, सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

MP NEWS : जूनियर डॉक्टर्स की फिर से हड़ताल शुरू, सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

2 महीने पहले जूडा की हड़ताल के दौरान तीन डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी गई थी. उसके बाद से अब तक चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने रजिस्ट्रेशन को बहाल नहीं किया है.

2 महीने पहले जूडा की हड़ताल के दौरान तीन डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी गई थी. उसके बाद से अब तक चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने रजिस्ट्रेशन को बहाल नहीं किया है.

BHOPAL. जूनियर डॉक्टरों (Juda) और सरकार के बीच टकराव और ज्यादा दिन तक बढ़ सकता है. जूनियर डॉक्टर मांग पर अड़े हैं कि जब तक 3 डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन पर लगी रोक हटा नहीं ली जाती और 21 डॉक्टरों को दिये गए कारण बताओ नोटिस वापस नहीं ले लिए जाते है, तब तक हड़ताल खत्म नहीं होगी.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्य प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉलेजों के जूनियर डॉक्टर्स (JUDA)  ने एक बार फिर से अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है. वो हड़ताल (Strike) पर चले गए हैं. हड़ताल के कारण मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं. प्रदेश भर में एक तरफ जहां वायरल फीवर, स्क्रब टायफर्स और डेंगू के पेशेंट बढ़ रहे हैं. जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल ने मरीजों की परेशानी को बढ़ा दिया है.

जूनियर डॉक्टर्स ने किया काम बंद
जूनियर डॉक्टर्स इस बार रजिस्ट्रेशन पर लगी रोक हटाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं. जूडा प्रेसिडेंट अरविंद मीणा का कहना है. 3 पदाधिकारियों के पीजी के बाद होने वाले रजिस्ट्रेशन पर सरकार ने रोक लगा दी है. रजिस्ट्रेशन पर लगी रोक हटाने की मांग की जा रही है. जब तक रजिस्ट्रेशन बहाल नहीं कर दिए जाते हैं तब तक जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल जारी रहेगी. चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों और मंत्री से कई बार बात बातचीत के जरिए रास्ता निकालने की कोशिश की गई लेकिन अब तक रास्ता निकल नहीं पाया है. इसके बाद ही हड़ताल का रास्ता अख्तियार किया गया है.

हड़ताल से मरीज परेशान
प्रदेश भर में इन दिनों वायरल फीवर का प्रकोप बढ़ रहा है. राजधानी भोपाल में 200 से ज्यादा बच्चे वायरल फीवर की चपेट में हैं. प्रदेश भर के अलग-अलग जिलों में वायरल फीवर से पीड़ित बच्चों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. स्क्रब टायफस और डेंगू के पेशेंट भी लगातार बढ़ रहे हैं. प्रदेश भर के पांचों सरकारी मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर्स के काम बंद करने से स्वास्थ्य व्यवस्था लड़खड़ा गई है. ओपीडी में कामकाज बंद होने से बड़े ऑपरेशन टाल दिए गए हैं. जूनियर डॉक्टर्स और सरकार के बीच अगर बात नहीं बनी तो मरीजों को स्वास्थ्य के लिए और ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

चिकित्सा शिक्षा मंत्री को हड़ताल की जानकारी नहीं
जूनियर डॉक्टर की हड़ताल से स्वास्थ्य व्यवस्थाएं लड़खड़ा गई हैं. चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग का कहना है उन्हें जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल के बारे में कोई जानकारी नहीं है. लगातार बातचीत का दौर जारी है. जहां तक काम बंद करने का सवाल है तो जूनियर डॉक्टर्स को काम बंद नहीं करना चाहिए बल्कि मरीजों के स्वास्थ्य के लिहाज से काम जारी रखना चाहिए.

रजिस्ट्रेशन पर लगी रोक ना हटने तक जारी रहेगी हड़ताल
जूनियर डॉक्टरों और सरकार के बीच टकराव और ज्यादा दिन तक बढ़ सकता है. जूनियर डॉक्टर मांग पर अड़े है कि जब तक 3 डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन पर लगी रोक हटा नहीं ली जाती और 21 डॉक्टरों को दिये गए कारण बताओ नोटिस वापस नहीं ले लिए जाते है, तब तक हड़ताल खत्म नहीं होगी. इससे पहले भी सरकार ने वादा किया था लेकिन सरकार अपने वादे से मुकर गई है. 2 महीने पहले जूडा की हड़ताल के दौरान तीन डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी गई थी. उसके बाद से अब तक चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने रजिस्ट्रेशन को बहाल नहीं किया है. इसलिए परेशान होकर एक बार फिर से जूनियर डॉक्टर्स ने आंदोलन का रास्ता अपनाया है.

Tags: Junior Doctor Strike, Junior Doctors Association, MP Junior Doctor

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर