Assembly Banner 2021

विधानसभा में नोंकझोंक : कमलनाथ ने मांगी साइकिल, शिवराज बोले- मैं नहीं दूंगा...

MP Budget Session: विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ के बीच दिलचस्प बहस हुई. इस बहस का सदस्यों ने मज़ा लिया.

MP Budget Session: विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ के बीच दिलचस्प बहस हुई. इस बहस का सदस्यों ने मज़ा लिया.

MP Budget Session: विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ के बीच दिलचस्प बहस हुई. इस बहस का सदस्यों ने मज़ा लिया.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश विधानसभा (MP Assembly) में बजट सत्र के पांचवें दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ (Kamalnath) के बीच हुई तीखी नोक-झोंक दिलचस्प किस्सों से होकर गुजरी. सदन में कचरे पर शुरू हुई बहस शिवराज सिंह चौहान की साइकिल पर आकर थमी. शिवराज और कमलनाथ के बीच टकराव की स्थिति बनी तो कई मुद्दों पर दोनों के बीच हंसी मजाक भी हुआ.

पेट्रोल और डीजल मूल्य वृद्धि को लेकर सदन में राज्यपाल के अभिभाषण की चर्चा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को अपना भाषण दिया. उसी दौरान एक मौके पर नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से निवेदन किया कि जो आपकी साइकिल थी, वह मुझे भिजवा दीजिए. इस पर शिवराज सिंह चौहान ने जवाब दिया कि मैं वह साइकिल आपको किसी कीमत पर नहीं भेज पाऊंगा, क्योंकि मुझे आपकी उम्र का भी ध्यान रखना है.

साइकिल पर कमलनाथ का तंज
कमलनाथ ने शिवराज पर यह तंज इसलिए कसा, क्योंकि 12 साल पहले 2008 में मुख्यमंत्री रहते हुए शिवराज सिंह चौहान ने पेट्रोलियम पदार्थों की मूल्य वृद्धि के खिलाफ साइकिल से मंत्रालय जाकर विरोध जताया था. उस समय केंद्र में यूपीए की सरकार थी और पेट्रोल के दाम 50 रुपये प्रति लीटर था. अब मोदी सरकार में दाम 100 रुपए प्रति लीटर पार हो गया है.
कचरे पर तीखी नोकझोंक


सदन में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा में सीएम शिवराज ने अपने संबोधन में कहा कमलनाथ जी और विपक्ष बार-बार कह रहा है कि 2018 में कचरा साफ हो गया. 2018 के चुनाव का जिक्र करते हुए शिवराज ने कहा मेरे मन में एक भी बार यह नहीं आया कि मुझे सीएम बने रहना. मैंने सोच लिया था कि मुझे सीएम हाउस खाली करना है. उस समय हम जोड़-तोड़ कर सकते थे. उस समय कई मित्र हमारे साथ आना चाहते थे. सुबह होते ही मैंने कमलनाथ को बधाई दी. इतना वोट परसेंट कांग्रेस को मिला. उसकी वजह कर्ज माफी का ऐलान था. इस बात को मैं मानता हूं. उन्होंने कहा बाद में कांग्रेस के एक नहीं, कई ऐसे वचन थे, जो पूरा नहीं होने की वजह से जनता में नाराजगी थी.

कांग्रेस के हीरे
शिवराज ने यह भी कहा कि कांग्रेस से आए नेताओं के साथ में काम कर रहा हूं. यह सब बहुत अच्छा काम करते हैं यह सब हीरा हैं. इस पर कमलनाथ ने जवाब देते हुए कहा कि आप सभी हीरे को बचा कर रखिए. हम इन्हें  पहले से जानते हैं.

इन मुद्दों पर हुई नोकझोंक...
1-फसल बीमा पर: कमलनाथ ने शिवराज से कहा-आपने फसल बीमा का प्रीमियम जमा नहीं किया.
-शिवराज ने कहा- हमने फसल बीमा की राशि किसानों को दी.मैं ओलावृष्टि के समय किसानों के पास जाता था लेकिन आप नहीं जाते थे.

2-विधायकों से नहीं मिलने पर: शिवराज ने कहा-मैं ओलावृष्टि के समय किसानों के पास जाता था लेकिन आप नहीं जाते थे.आप विधायकों से मिलते नहीं थे.
-कमलनाथ ने जबाव दिया-मैं विधायकों को मिलने के लिए समय देता था ना कि टीवी पर सीरियल देखता था.

3-खजाना खाली और कर्ज माफी: शिवराज ने कहा-आप खजाना खाली होने का आरोप लगाया करता थे लेकिन हमने इसकी कमी महसूस नहीं होने दी.शिवराज ने आगे कहा-आज हिसाब किताब पूरा हो जाए.कर्जा लेकर किसानों के खाते में पैसे डाले हैं तो आपको तकलीफ क्यों हो रही है.कोरोना काल में किसानों के खाते में पैसे डाले, उनकी फसल खरीदी. कमलनाथ ने कहा-आपसे आंकड़ों के खेल में जीतना मुश्किल है.
4-परंपरा तोड़ने पर सवाल जबाव:
गोपाल भार्गव ने विधानसभा में डिवीजन करने पर कहा कि खेल आपने शुरू किया है और हमने कहा था खत्म हम करेंगे.
-कमलनाथ ने जवाब देते हुए कहा- खेल आपने शुरू किया था, जब आपने अध्यक्ष के चुनाव में कैंडिडेट खड़ा किया. आपने परंपरा तोड़ी.

5-कुचलने की राजनीति
शिवराज ने कहा-आपने सरकार में आते ही बीजेपी नेताओं को निशाना बनाना शुरू कर दिया था.बदले की कार्रवाई आपने की. कुचलने  वाली मानसिकता आप लोगों की थी. उच्च अधिकारियों की बोली लगी.
-कमलनाथ ने कहा-आपके इस तरह के आरोप गलत हैं. आप मुझे सदन में नहीं बल्कि अकेले बता गए कि किन उच्च अधिकारियों की बोली लगी. यहां पर सदन को बताना चाहता हूं कि मैंने माननीय के कहने पर कई कार्रवाई को रुकवाया.
- सीएम शिवराज ने आगे कहा-कांग्रेस में एक नहीं कई ऐसे वचन थे, जो पूरा नहीं होने की वजह से जनता में नाराजगी थी.

6- शिवराज के बार-बार बंटाधार की बात पर कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा-आप सिर्फ बंटाधार की योजनाओं को अभी तक क्यों चला रहे हैं. सीएम ने कहा कि इस पर फिर कभी चर्चा करेंगे.

7- लाड़ली लक्ष्मी औऱ मेधावी छात्र योजना 
- शिवराज ने कहा- हमने लाड़ली लक्ष्मी योजना से लेकर महिलाओं के लिए कई योजनाएं बनाईं. उनको सरकारी नौकरी में प्राथमिकता दी. लेकिन आपकी सरकार ने हमारी संबल योजना को बंद कर दिया. उसका नाम नया सवेरा कर दिया.लोगों को उसका फायदा नहीं मिला. दीनदयाल रसोई योजना, मेधावी छात्र योजना बंद कर दी गयीं.
-कमलनाथ ने जवाब देते हुए कहा कि जब हमने मेधावी छात्रों को लैपटॉप योजना की जांच की तो पता चला कि उन्हें लैपटॉप मिल नहीं रहे थे.

8-महिला अपराधों पर नोकझोंक:
- सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सदन में कहा यह बात सही है कि अपराध बढ़े लेकिन सरकार में तेज गति के साथ ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है. पहले शिकायत ही दर्ज नहीं होती थी. लेकिन हमें शिकायत नहीं बल्कि एफआईआर कराने पर जोर दिया है. यही कारण है तो उसे तुरंत ज्यादा सामने आ रहा है.
9-शिवराज ने कहा-प्रदेश में कोई स्कूल बंद नहीं होगा.20-25 किलोमीटर के दायरे में स्कूल खोलेंगे. इन स्कूलों में परिवहन की व्यवस्था की जाएगी. सीएम राइज स्कूल खोले जायंगे.बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की कोशिश कर रहे हैं. कोरोना काल में पूरी फीस ली गई,  हम ऐसी व्यवस्था करें कि कोई बच्चा परीक्षा से वंचित ना रहे.

10-शिवराज ने कहा-स्वास्थ्य की व्यवस्था को भी हम ठीक कर रहे हैं. आयुष्मान कार्ड के जरिए 5 लाख तक का इलाज दिया जा रहा है. पीपी मोड पर आने वाले अस्पताल से भी टाइपअप किया जाएगा.

11-रोजगार क्षेत्र में भी सरकार काम कर रही है.सरकारी नौकरियां भी निकाली जा रही हैं.इन्वेस्टमेंट लाने के प्रयास किए जा रहे हैं.
-कमलनाथ-मध्यप्रदेश में रोजगार सबसे बड़ी चुनौती है. सरकार सहयोग की बात करे तो हम सहयोग करेंगे.व्यक्तिगत तौर पर भी सहयोग करूंगा.लेकिन इन्वेस्टमेंट के लिए सबसे जरूरी विश्वास होता है.

12-शिवराज ने कहा-मप्र में सत्ता के दलाल हैं, जो कभी इस पार्टी तो किसी दूसरी पार्टी में चिपक जाते हैं और वह अपने काम में सफल हो जाते हैं. हम ऐसे सत्त्ता के दलालों पर सख्ती से कार्रवाई करेंगे.

13-शराब पर शिवराज ने कहा-मैं नशा मुक्त मप्र चाहता हूं. मंहगी शराब की वजह से इधर उधर की शराब पी लेते हैं. हम शराब माफिया को खत्म कर देंगे.हम सब मिलकर काम करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज