अपना शहर चुनें

States

PM मोदी की तर्ज पर CM शिवराज ने भी शुरू की चाय पर चर्चा, मंत्रियों से की बात

दोनों मंत्रियों ने अपने विभाग का प्लान सीएम को बताया
दोनों मंत्रियों ने अपने विभाग का प्लान सीएम को बताया

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) ने बीते मंगलवार को कोलार डैम के पास मंत्रियों के साथ हुई अनौपचारिक कैबिनेट की बैठक में यह तय किया था कि वह हर रोज अपने एक मंत्री के साथ चाय पर चर्चा करेंगे.

  • Share this:
भोपाल.मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) ने मंत्रियों के साथ चाय पर चर्चा शुरू कर दी है. आज पहले दिन उन्होंने इसकी शुरुआत चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और खेल एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से चर्चा कर की.

सबसे पहले चाय पर चर्चा का दौर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग के साथ शुरू हुआ.  विश्वास सारंग सीएम हाउस पहुंचे और करीब 15 मिनट तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनसे चाय पर चर्चा की.विश्वास सारंग के बाद नंबर आया खेल एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया का. यशोधरा राजे और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच चाय पर चर्चा का दौर शुरू हुआ और वो भी 15 मिनट तक चला. इस दौरान दोनों मंत्रियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से अपने विभागों की योजनाओं और फ्यूचर प्लानिंग को लेकर चर्चा की.

विभागों की योजना बताईं
चाय पर चर्चा के दौरान विश्वास सारंग और यशोधरा राजे सिंधिया दोनों मंत्रियों ने अपने विभागों की आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के लिहाज से भविष्य की योजना मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बताई. दोनों ने बताया कि उनके विभाग आखिरकार आने वाले दिनों में किन-किन प्रोजेक्ट पर काम करेंगे और मौजूदा प्रोजेक्ट कब तक पूरे हो जाएंगे. इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दोनों मंत्रियों को विभागों के प्रोजेक्ट के बारे में सुझाव भी दिए और बेहतर प्लानिंग के लिए तारीफ भी की.



हर रोज़ चाय पर चर्चा
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीते मंगलवार को कोलार डैम के पास मंत्रियों के साथ हुई अनौपचारिक कैबिनेट की बैठक में यह तय किया था कि वह हर रोज अपने एक मंत्री के साथ चाय पर चर्चा करेंगे. अगर मुख्यमंत्री या मंत्री दौरे पर हैं सिर्फ उसी दिन यह चर्चा नहीं होगी.इसी पर अमल करते हुए गुरुवार से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चाय पर चर्चा का दौर शुरू किया.मुख्यमंत्री पहले ही यह साफ कर चुके हैं कि प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जो प्लानिंग की गई है उस पर सभी विभागों को आगे बढ़ना होगा और मंत्री भविष्य की प्लानिंग के साथ ही काम करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज