MP की जेलों में तेजी से फैल रहा है कोरोना, अब तक 300 से ज्यादा कैदी संक्रमित

जेलों में क्षमता से ज़्यादा कैदी होने के कारण कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है.

जेलों में क्षमता से ज़्यादा कैदी होने के कारण कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है.

Bhopal News: जेलों में संक्रमण रोकने के लिए गाइडलाइन भी जारी की गई है. इस गाइडलाइन के तहत कैदियों की जांच जरूरी है. कोरोना संक्रमण के लक्षण होने पर उन्हें 15 दिन के लिए आइसोलेट किया जाता है.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना के भयावह दौर में मध्य प्रदेश की जेलें भी इसकी चपेट में आ गई हैं. मप्र प्रदेश की जेलों में इस समय 300 से ज़्यादा संक्रमित कैदी हैं. जेलों में क्षमता से ज़्यादा कैदी होने के कारण ये स्थिति बन रही है.

मध्य प्रदेश की जेलों में भी संक्रमण तेज़ी से बढ़ गया है. सरकार ने कैदियों को पैरोल पर छोड़ने का फैसला भी लिया था , लेकिन उससे पहले ही संक्रमण ने रफ्तार पकड़ ली है.

मध्य प्रदेश की जेलों में अब तक 300 कैदी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. इसके पीछे एक बड़ी वजह क्षमता से अधिक बंदी होना बताई जा रही है. जेल विभाग ने संख्या कम करने के लिए बंदियों को पैरोल पर छोड़ा है.लेकिन जितने बंदियों को पैरोल मिली है, उससे ज्यादा नए कैदी जेल में आ रहे हैं.

ये है जेलों की हालत...
प्रदेश की 131 जेलों में 50 हजार कैदी बंद हैं. इन जेलों में कैदियों को रखने की क्षमता 28 हजार ही है. सरकार ने जेलों में कैदियों की संख्या कम करने के लिए 4500 बंदियों को पैरोल पर छोड़ा है. लेकिन दूसरी तरफ एक महीने में आठ हजार नए कैदी जेल पहुंचे हैं. इससे कैदियों की संख्या कम नहीं हुई, बल्कि जितने छोड़े थे उससे ज़्यादा जेल में पहुंच गए हैं. अभी भी स्थिति जस की तस बनी हुई है.



ये है जेलों में व्यवस्था...



जेलों में संक्रमण रोकने के लिए गाइडलाइन भी जारी की गई है. इस गाइडलाइन के तहत कैदियों की जांच जरूरी है. कोरोना संक्रमण के सिम्टम होने पर उन्हें 15 दिन के लिए आइसोलेट किया जाता है. जेलों में आने वाले नए कैदियों की भी जांच की जाती है. उन्हें भी 15 दिन के लिए आइसोलेशन में रखा जाता है. इसके अलावा अस्थायी जेल बनाई गई है. वहां पर नए कैदियों को रखने की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा समय-समय पर कैदियों का चैकअप भी किया जा रहा है. उन्हें आयुर्वेदिक काढ़ा और जरूरी दवाइयां दी जा रही हैं. लेकिन जब पूरे देश में कोरोना फैल रहा है तो फिर जेलें और कैदी कैसे बच सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज