• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • भोपाल में हुआ 21 कोविड मृतकों के शवों का पोस्टमॉर्टम, जानिए कितना खतरनाक है ये वायरस

भोपाल में हुआ 21 कोविड मृतकों के शवों का पोस्टमॉर्टम, जानिए कितना खतरनाक है ये वायरस

AIIMS भोपाल के इन चार डॉक्टरों के पैनल ने कोरोना पेशेंट्स के शवों का पोस्टमॉर्टम किया.

AIIMS भोपाल के इन चार डॉक्टरों के पैनल ने कोरोना पेशेंट्स के शवों का पोस्टमॉर्टम किया.

BHOPAL- शवों की एटॉप्सी में खुलासा हुआ है कि कोरोना वायरस ने मरीज़ों के लंग्स, किडनी के साथ ब्रेन, पैंक्रियाज, लिवर और हार्ट तक को नुकसान पहुंचाया. कुछ मरीज़ों के ब्रेन में ज़बरदस्त संक्रमण था. साथ ही मौत के 20 घंटे के बाद भी शवों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

  • Share this:
भोपाल. भोपाल के डॉक्टरों ने एक इतिहास लिख दिया. देश में पहली बार यहां के AIIM में डॉक्टरों ने कोरोना में मारे गए लोगों के शवों का पोस्टमॉर्ट (Postmortem) रिसर्च के लिए किया. इसमें पता चला कि कोरोना वायरस (Corona Virus) का असर कितना घातक साबित हुआ.

देश में पहली बार मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोविड शवों का पोस्टमॉर्टम किया गया. पोस्टमॉर्टम में कोरोना वायरस कितना खतरनाक है इस बात का पता चला है. चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने इससे आगे कोरोना से संबंधित रिसर्च और इलाज में मदद मिलने की उम्मीद जताई है. उन्होंने कहा इस रिसर्च पर सरकार विचार कर रही है. आगे और मदद भी मिलेगी.

4 डॉक्टरों के पैनल ने किया पोस्टमॉर्टम
भोपाल एम्स के 4 डॉक्टरों ने 21 कोविड शवों का पोस्टमॉर्टम किया. इनमें मेडिसिन डिपार्टमेंट की एडिशनल प्रोफेसर डॉ. जयंती यादव, सीनियर रेसीडेंट डॉ. बृंदा पटेल, पीजी स्टूडेंट डॉ. एस. महालक्ष्मी और डॉ. जे. श्रवण शामिल थे. इनमें तीन महिला और एक पुरुष डॉक्टर हैं. जिन शवों का पोस्टमॉर्टम किया गया उनमें 15 पुरुष और 6 महिलाओं के थे. शवों की एटॉप्सी में खुलासा हुआ है कि कोरोना वायरस ने मरीज़ों के लंग्स, किडनी के साथ ब्रेन, पैंक्रियाज, लिवर और हार्ट तक को नुकसान पहुंचाया. कुछ मरीज़ों के ब्रेन में ज़बरदस्त संक्रमण था. साथ ही मौत के 20 घंटे के बाद भी शवों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. डॉक्टरों ने अगस्त से अक्टूबर 2020 के बीच 21 कोविड शवों का पोस्टमॉर्टम कर उनके अंगों में कोविड के संक्रमण का एनालिसिस किया.

रिसर्च से मिलेगी मदद
एम्स में शवों के पोस्टमार्टम को लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा महामारी में रिसर्च और स्टडी जरूरी है. एम्स की रिपोर्ट पर हम विचार कर रहे हैं. आने वाले समय में हमे कोरोना के इलाज में क्या नया जोड़ सकते हैं क्या परिवर्तन करना है इसकी हम स्टडी कर रहे हैं. कोरोना को लेकर विस्तृत स्टडी करा रहे हैं.

तीसरी लहर की तैयारी
मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि कोविड की स्थिति नियंत्रण में है. लेकिन कोविड का संक्रमण अभी है. तीसरी लहर के लिए नियंत्रण की पूरी तैयारी की हुई है. वैक्सीनेशन बहुत तेजी से हो रहा है. तीसरी लहर के लिए संस्थागत पूरी तैयारी की हुई है. हर अस्पताल में बिस्तरों की समुचित व्यवस्था हो. मुख्यमंत्री के निर्देश पर हेल्थ वर्कर्स का ट्रेनिंग प्रोग्राम चल रहा है. ऑक्सीजन प्लांट के इंस्टॉलेशन का काम भी तेजी से किया जा रहा है.

नर्सों की हड़ताल का हल नहीं
नर्सों की हड़ताल को हाईकोर्ट अवैध करार दे चुका है. विश्वास सारंग ने कहा हमारी सरकार में किसी को कोई धमकी नहीं दी जाती. हम नर्सों के साथ संवाद करेंगे. इस समय हड़ताल ठीक नहीं है. नर्सों के मामले में कोई दिक्कत नहीं है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज