BHOPAL NEWS : MP में अब प्रतिनियुक्ति में नहीं चलेगी IPS अफसरों की मनमानी, DGP ने बनाया नया नियम

MP NEWS- डीजीपी विवेक जौहरी ने 8 साल पुराना नियम निरस्त किया है.

MP NEWS- डीजीपी विवेक जौहरी ने 8 साल पुराना नियम निरस्त किया है.

Bhopal : नये आदेश के बाद अब जो स्टाफ आंतरिक प्रतिनियुक्ति पर 5 साल से ज्यादा समय से पदस्थ है, उसे मूल शाखा में जाना होगा.इसका सीधा असर लोकायुक्त, ईओडब्ल्यू (EOW) और सायबर सेल पर पड़ेगा.

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश में अब पुलिस अधिकारी कर्मचारियों की प्रतिनियुक्ति में आईपीएस अफसरों (IPS Oficers) की मनमानी नहीं चलेगी. डीजीपी विवेक जौहरी ने 8 साल पुराना नियम निरस्त कर नया नियम बना दिया है. नयी व्यवस्था में यूनिट के मुखिया से ये अधिकार छीन कर पुलिस मुख्यालय की प्रशासन शाखा को दे दिया गया है.

पुलिस मुख्यालय में प्रतिनियुक्ति पर पुलिस अधिकारी कर्मचारियों की पदस्थापना के पुराने आदेश को डीजीपी विवेक जौहरी ने निरस्त कर दिया है. डीजीपी विवेक जौहरी ने पुलिस विभाग में कॉन्स्टेबल, हेड कॉन्स्टेबल की पुलिस मुख्यालय में प्रतिनियुक्ति का 2013 का आदेश निरस्त किया है. उन्होंने अब कॉन्स्टेबल से लेकर इंस्पेक्टर रैंक तक के अधिकारी कर्मचारियों के लिए नई व्यवस्था बना दी है. इन पुलिसकर्मियों की अब अपनी मूल शाखा से दूसरी यूनिट में आंतरिक प्रतिनियुक्ति सीधे नहीं हो सकेगी.

यूनिट प्रमुख से छीने अधिकार

डीजीपी के नये आदेश के बाद अब प्रतिनियुक्ति के अधिकार यूनिट के मुखिया से छीन कर पुलिस मुख्यालय की प्रशासन शाखा को दिए गए हैं.अब प्रशासन शाखा से ही प्रतिनियुक्ति के संबंध में आदेश जारी होंगे. अभी तक यूनिट में पदस्थ आईपीएस अफसर अपनी मर्जी के मुताबिक अधिकारी कर्मचारियों की प्रतिनियुक्ति कर देते थे. लेकिन अब वो ऐसा नहीं कर पाएंगे.
ये हैं नये नियम...

पुलिस मुख्यालय की अजाक, विशेष शाखा, एससीआरबी, सायबर सेल, सीआईडी, हॉकफोर्स, एटीएस, एसटीएफ, नारकोटिक्स , प्रशिक्षण संस्थाएं, ईओडब्ल्यू, लोकायुक्त में आतंरिक प्रतिनियुक्ति मानी जाती है.नये आदेश के बाद अब जो स्टाफ आंतरिक प्रतिनियुक्ति पर 5 साल से ज्यादा समय से पदस्थ है, उसे मूल शाखा में जाना होगा.इसका सीधा असर लोकायुक्त, ईओडब्ल्यू और सायबर सेल में पदस्थ कई पुलिस अफसर और कर्मचारियों पर पड़ेगा जो लंबे समय से यहां पदस्थ हैं. ये सभी अपनी मूल यूनिट में वापस भेजे जा सकते हैं.

- प्रतिनियुक्ति पर जाने वाले अधिकारी कर्मचारी को शाखा प्रमुख से सिफारिश करवानी होगी.



-अधिकारी कर्मचारी की विभागीय जांच को भी प्रतिनियुक्ति के समय देखा जाएगा.

-पुलिस मुख्यालय में प्रतिनियुक्ति 3 वर्ष के लिए की जाएगी.

-एसआई प्रोबेशन अवधि के 5 साल बाद प्रतिनियुक्ति पर जा पाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज