MP में लॉक डाउन को अब कहा जाएगा कोरोना कर्फ्यू, 11 से 14 तक टीकाकरण उत्सव 

मुख्यमंत्री ने कहा लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का प्रयोग किया जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का प्रयोग किया जाए.

भोपाल. मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है. यह संकट और परीक्षा की घड़ी है. पूरे धैर्य, संयम और आत्म-विश्वास से कार्य करें. जनता की सेवा में कोई कमी न छोड़ें.

  • Share this:
भोपाल. एमपी (MP) में अब लॉक डाउन को कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) कहा जाएगा. सीएम शिवराज सिंह की अध्यक्षता में हुई हाई लेवल मीटिंग में ये फैसला किया गया. इसी के साथ 45 साल से ऊपर के लोगों को टीका लगाने के लिए रविवार 11 अप्रैल से टीकाकरण उत्सव शुरू किया जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वीडियो कॉन्फ्रेंस के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अफसरों के साथ बैठक की. इसमें कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए गए. लॉक डाउन शब्द बदलने का फैसला सरकार ने लिया. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है इससे लोगों में जागरुकता आएगी. अब प्रदेश भर में 11 से 14 अप्रैल के बीच टीका उत्सव मनाया जाएगा. इसमें 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों का अभियान चलाकर टीकाकरण किया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी वीडियो कॉन्फ्रेंस में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से इस बात का अनुरोध भी किया था.

मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है. यह संकट और परीक्षा की घड़ी है. पूरे धैर्य, संयम और आत्म-विश्वास से कार्य करें. जनता की सेवा में कोई कमी न छोड़ें. कोरोना के इलाज के लिए अस्पतालों में पर्याप्त बिस्तर, ऑक्सीजन, दवाएँ, इंजेक्शन और अन्य सभी व्यवस्थाएं हों.

11-14 अप्रैल तक टीका उत्सव
प्रदेश में 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव मनाया जाएगा इसमें 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण किया जाएगा. सीएम के मुताबिक हमारा यह प्रयास होना चाहिए कि कोरोना वैक्सीन का एक भी डोज वेस्ट न हो और लक्षित समूह का कोई व्यक्ति टीकाकरण से न छूटे. मुख्यमंत्री ने कहा लॉकडाउन के स्थान पर कोरोना कर्फ्यू शब्द का प्रयोग किया जाए. इससे लोगों में कोरोना के प्रति जागरुकता बढ़ेगी. साथ ही कोरोना नियंत्रण के लिये छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन बनाये जाएं. जिलों की स्थिति अनुसार बड़े कंटेनमेंट जोन भी बनाये जा सकते हैं.



मेरा मास्क मेरी सुरक्षा, मैं  कोरोना वॉलेंटियर



अस्पतालों में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहे ये निश्चित करने के लिए एक राज्य-स्तरीय सैल बनाया गया है. इसके प्रभारी अपर मुख्य सचिव एस.एन. मिश्रा बनाए गए हैं. बिस्तरों की संख्या और कोविड केयर सेन्टर्स की व्यवस्था के संबंध में आईएएस नीरज मंडलोई को राज्य स्तरीय नोडल अधिकारी बनाया गया है. जागरूकता के लिए "मेरा मास्क मेरी सुरक्षा",  "मैं  कोरोना वालेंटियर" जैसे अभियान भी चलाने का फैसला लिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज