कीचड़ भरा था रास्ता, पुलिस ने किया ऐसा काम कि सब कर रहे सराहना

पुलिस का जब कभी मानवीय चेहरा दिखता है तो लोग सराहना करते नहीं थकते हैं. भोपाल के बैरसिया इलाके के एक गांव में महिला की मौत के बाद पुलिस का ऐसा ही रूप देखने को मिला.

Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 26, 2019, 12:21 PM IST
Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 26, 2019, 12:21 PM IST
पुलिस का जब कभी मानवीय चेहरा दिखता है तो लोग सराहना करते नहीं थकते. राजधानी भोपाल के बैरसिया इलाके के एक गांव में महिला की मौत के बाद पुलिस का ऐसा ही चेहरा दिखा. गांव वाले उसकी सराहना कर रहे हैं. फांसी लगाकर मरने की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची थी. बारिश के कारण गांव से करीब 2 किलोमीटर तक कीचड़ भरा था और पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल तक शव को ले जाने के लिए कोई भी गाड़ी वहां पहुंच नहीं सकती थी. पुलिस ने शव को खुद ले जाने का बीड़ा उठाया और परिजनों की मदद से शव को खटिया पर डाला. कीचड़ भरे रास्ते से पुलिसकर्मी खुद शव को कंधा देकर मुख्य रास्ते तक लेकर आए और वहां से वाहन से शव पोस्टमार्टम के लिए बैरसिया अस्पताल पहुंचाया गया. पुलिस की यह संवेदनशीलता देख मृत महिला के परिजन ही नहीं पूरे गांव के लोग अभिभूत हो गए.

कलीबाई ने लगा ली थी फांसी 
बैरसिया थाना प्रभारी एसएन पांडे के अनुसार, ढेकपुर गांव स्थित बिजौरी टपरा के रहने वाले जगदीश बिजौरी की पत्नी कलीबाई ने सुबह करीब 10 बजे फांसी लगा ली थी. सूचना पाकर थाने से एएसआई गंगाराम शाक्य, मुन्नालाल ओझा, श्रीधर चंदेरिया और सिपाही मांगीलाल ढेकपुर टपरा पहुंचे. शव को फंदे से उतारा गया. वहां से शव को मुख्य मार्ग तक लाना चुनौती भरा काम था.

ये भी पढ़ें- पुलिस का मानवीय चेहरा, 85 साल के बिछड़े बुजुर्ग को घरवालों को सौंपा

घायल युवक को अस्पताल ले जाना पुलिस को पड़ा महंगा, ग्रामीणों ने थाने पर किया पथराव

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 26, 2019, 12:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...