Bhopal: अपहरण कांड में 5 गिरफ्तार, इतनी रकम की वजह से अपने ही बने अपनों के दुश्मन

हीरा व्यापारी के अपहरण का केस पुलिस ने सुलझा लिया. (प्रतीकात्मक फोटो) .

हीरा व्यापारी के अपहरण का केस पुलिस ने सुलझा लिया. (प्रतीकात्मक फोटो) .

परिचितों ने ही 3 जनवरी को हुजैफा का अपहरण किया था. उन्होंने कुछ साल पहले पीड़ित के पिता को कुछ लाख रुपए दिये थे. वही वापस लेने के लिए इस घटना को अंजाम दिया गया था.

  • Last Updated: January 8, 2021, 7:07 AM IST
  • Share this:
भोपाल. शहर के बहुचर्चित अपहरण कांड में पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. इन 5 आरोपियों ने 3 जनवरी को कोहेफिजा के डायमंड मर्चेंट के बेटे हुजैफा खान का अपहरण कर उसे शिवपुरी में छोड़ दिया था.

पुलिस ने बताया कि अपहरण के बाद अपहृत और उसके सभी जानने वालों के मोबाइल को सर्विलांस पर डाल दिया गया था. इस तरह पता चला कि आरोपी पिछोर जिला शिवपुरी के हैं और अपहृत को उसी तरफ लेकर गए हैं. पुलिस टीम भी पिछोर के लिए रवाना हुई ओर लोकल  पुलिस की मदद से आरोपियों के घरों में दबिश दी. आरोपियों पर पुलिस का इतना दबाव पड़ा कि उन्होंने अपहरण करना स्वीकार कर लिया. अपहरण की इस घटना को उधारी पर दिए 16 लाख रुपए वापस लेने के लिए अंजाम दिया गया.

ये हैं अपहरण के आरोपी

पुलिस ने मुख्य आरोपी शाहरुख उर्फ राबी, शाहरुख उर्फ राजी को काली पहाड़ी शिवपुरी से, असद उर्फ शानू, सलमान और आसिम को रुस्तम खां का अहाता श्यामला हिल्स, भोपाल से गिरफ्तार किया. आरोपियों से घटना में उपयोग की गई पीड़ित की कार क्रमांक जी.जे 04 सीआर 0884 और आरोपी आशिफ की कार बरामद की गई है.
यह है सनसनी फैलाने वाला मामला

घटना 3 जनवरी की है. कोहेफिजा थाने के एसआइ प्रदीप गुर्जर ने बताया कि कोहेफिजा, बीडीए कॉलोनी में रहने वाले हुजैफा खान पिता के साथ मिलकर हीरों का कारोबार करते हैं. घटना की रात 11 बजे वह अपने घर पर थे, तभी एक कार से उसके परिचित आसिफ, शाहरुख और असद वहां पहुंचे. आवाज लगाने पर हुजैफा का बेटा इब्राहिम बाहर निकला. आसिफ ने कहा कि तुम्हारे पिता को भेजो. हुजैफा घर से बाहर निकला और तीनों को घर में अंदर चलकर बात करने को बोला. इस पर तीनों ने तमाचा मारते हुए हुजैफा को जबरन कार में बिठा लिया और वहां से भाग निकले.

पिता से कराई फोन पर बात



एसआइ गुर्जर ने बताया कि कुछ देर बाद आसिफ ने हुजैफा की फोन पर उसके पिता से बात कराई. साथ ही कहा कि बेटे को सकुशल चाहते हो तो 16 लाख रुपये ले आओ. दरअसल आसिफ की ससुराल शिवपुरी में है. आसिफ के ससुर हुजैफा के पिता के मित्र हैं. हुजैफा के पिता ने वर्ष-2016 में आसिफ के ससुर से कारोबार के लिए 20 लाख रुपये उधार लिए थे. इसमें से उन्होंने चार लाख रुपये तो लौटा दिए थे, लेकिन बाकी के रुपये लौटाने में आनाकानी कर रहे थे.

रुपये वसूलने के लिए किया अपहरण

रुपये वसूलने के लिए आसिफ ने अपने दोस्तों के साथ हुजैफा का अपहरण कर लिया. हुजैफा की पत्नी बुसरा सैयद की शिकायत पर आरोपितों के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज हुआ था. पुलिस का दबाव बढ़ने पर आरोपित हुजैफा को शिवपुरी के पास छोड़कर फरार हो गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज