भोपाल पुलिस ने पकड़े DU से पास आउट दो शातिर ठग, ब्रांडेड मोबाइल सस्ते में बेचने का देते थे झांसा

इन ठगों को ये भी याद नहीं कि ये अब तक कितने लोगों को ठग चुके हैं.
इन ठगों को ये भी याद नहीं कि ये अब तक कितने लोगों को ठग चुके हैं.

दोनों आरोपी दरभंगा बिहार (bihar) के रहने वाले हैं. अब तक कितने लोगों को ये ठग (thug) चुके ये भी याद नहीं है. ठगी के इस धंधे से वो अब तक इतना कमा चुके हैं कि दिल्ली में ही अपने-अपने मकान भी बना लिये हैं.

  • Share this:
भोपाल. भोपाल पुलिस (Police) ने दो ऐसे शातिर ठगों (Thug) को गिरफ्तार किया है जो दिल्ली में बैठकर पूरे देश के लोगों को ठग रहे थे. ये ब्रांडेड कंपनियों के महंगे मोबाइल फोन सस्ते में बेचने का ऑफर देकर लोगों को अपने कब्जे में लेते थे और ठग लेते थे. इनका धंधा इतना बढ़िया चल रहा था कि आरोपियों ने दिल्ली में अपने मकान तक बनवा लिए. दोनों आरोपी दरभंगा बिहार के रहने वाले हैं.

ऐसे मिला सुराग
भोपाल के कोलार इलाक़े में रहने वाले एक युवक के मोबाइल फोन पर अनजान मोबाइल नम्बर से कॉल आया. उसमें कहा गया कि वो एमआई रेडमी कंपनी का रिप्रेजेन्टेटिव है और कंपनी के महंगे फोन वो सस्ते में उपलब्ध करा सकता है. युवक बातों में आ गया.ठगों ने कहा पेमेंट माल की डिलीवरी के बाद करना. करीब हफ्ते भर बाद युवक के घर डाक से एक पैकेट आया. युवक ने पोस्टमैन को 4500/- रुपये का पैमेन्ट किया और पैकेट ले लिया.लेकिन जब पैकेट खोला तो उसमें मोबाइल फोन के बजाए गत्ते के टुकड़े रखे मिले. उसके बाद युवक ने कोलार थाने में शिकायत की.

दिल्ली गयी टीम
युवक की शिकायत पर भोपाल पुलिस की एक टीम दिल्ली गयी और मोबाइल फोन की लोकेशन के आधार पर घेराबंदी कर अनाम हैदर और जफर खान नाम के आरोपियों को पकड़ लिया. पूछताछ में सामने आया कि इन लोगों ने नांगलोई, नजबगढ़ रोड नई दिल्ली में किराये का मकान लेक रखा था. वहीं से लोगों को ब्रांडेड मोबाइल सस्ते में बेचने का ऑफर देते थे. जब व्यक्ति मोबाइल लेने के लिये राजी हो जाता तो उसका पता लेकर मोबाइल के आकार का एक पैकेट तैयार कर डाक से भेज देते थे. खरीददार मोबाइल की कीमत डाकिया को दे देता था फिर आरोपी अपने संबंधित डाकघर से उस रकम को ले लेते थे.



ऐसे करते थे धोखाधड़ी
पूछताछ में आरोपियों ने यह भी बताया कि वह गूगल पर किसी भी मोबाइल कंपनी के सिम नम्बर की सीरीज ढूंढ़कर कुछ मोबाइल नम्बर हासिल कर लेते थे. फिर उन्हीं मोबाइल नंबरों के आगे-पीछे अंक बदलकर लोगों से धोखाधड़ी करते थे.

DU से पढ़े हैं दोनों आरोपी
दोनों आरोपी बीकॉम पास हैं और दिल्ली विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है. ये मूलतः दरभंगा बिहार के रहने वाले हैं. अब तक कितने लोगों को ये ठग चुके ये भी याद नहीं है. ठगी के इस धंधे से वो अब तक इतना कमा चुके हैं कि दिल्ली में ही अपने-अपने मकान भी बना लिये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज