लॉकडाउन में छूटी नौकरी तो महिला ने शुरू किया नशे का कारोबार, UP से लाकर भोपाल में बेचने लगी गांजा

उसका कहना है कि मॉल में सेल्समैन की नौकरी छूटने के कारण वह इस धंधे में आ गई.
उसका कहना है कि मॉल में सेल्समैन की नौकरी छूटने के कारण वह इस धंधे में आ गई.

आरोपी महिला विशाखापट्टनम (Visakhapatnam) के रास्ते ललितपुर तक गांजा लाकर भोपाल में तस्करी करती थी. उसका कहना है कि मॉल में सेल्समैन की नौकरी छूटने के कारण वह इस धंधे में आ गई.

  • Share this:
भोपाल. पुलिस (Bhopal Police) ने नशे के कारोबार से जुड़ी एक ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है, जो ट्रेन में यूपी से गांजा लाकर भोपाल में ठिकाने लगाया करती थी. पूछताछ में महिला ने पुलिस को बताया कि लॉकडाउन (Lockdown) में उसकी सेल्समैन की नौकरी छूट गई थी. इसके बाद वह बेरोजगार हो गई. ऐसे में उसने इस गोरखधंधे में उतरने का फैसला किया और गांजे की तस्करी (Smuggling) करने लगी. पुलिस ने महिला के साथ एक युवक को भी गिरफ्तार किया है. उससे भी पूछताछ की जा रही है.

शाहपुरा पुलिस ने बताया कि मुखबिर ने सूचना दी कि बावड़‍िय ओवर ब्रिज की तरफ से एक महिला और एक पुरुष स्‍कूटर और बाइक से आ रहे हैं, जिनके पास अवैध गांजा है. पुलिस ने इस सूचना पर रेलवे ओवर ब्रिज पर दोनों की तलाशी ली. उसमें एक किलो दो सौ ग्राम गांजा मिला. युवक का नाम कुलदीप पाठक उर्फ अजय पाठक है और महिला ने अपना नाम नीलम पुरी बताया है. दोनों यूपी के रहने वाले हैं.

युवती इसलिए बनी गांजा तस्कर
महिला विशाखापट्टनम के रास्ते ललितपुर तक गांजा लाकर भोपाल में तस्करी करती थी. उसका कहना है कि मॉल में सेल्समैन की नौकरी छूटने के कारण वह इस धंधे में आ गई. महिला भोपाल में लॉकडाउन के पहले सेल्समैन की नौकरी करती थी. लॉकडाउन में नौकरी छूट गई. नौकरी छूट जाने के कारण बेरोजगारी से जूझ रही इस महिला ने इस गोरखधंधे में उतरने का मन बनाया. वह विशाखापट्टनम से गांजा का पैकेट ट्रेन की किसी बोगी में छोड़ देती और खुद दूसरी बोगी में टिकट लेकर बैठ जाती थी. वह इसलिए ऐसा करती थी कि गांजा पकड़ा भी जाए तो उस तक पुलिस न पहुंच सके. महिला का पति से तलाक हो गया था. इसके बाद वह आरोपी कुलदीप के संपर्क में थी और उसी के साथ गांजा तस्करी का काम करने लगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज