Home /News /madhya-pradesh /

एक फाइल के कारण मध्य प्रदेश में अटक गए 12000 पुलिस वालों के प्रमोशन

एक फाइल के कारण मध्य प्रदेश में अटक गए 12000 पुलिस वालों के प्रमोशन

इस बीच 2 हजार पुलिस वाले बिना प्रमोशन के ही रिटायर हो गए.

इस बीच 2 हजार पुलिस वाले बिना प्रमोशन के ही रिटायर हो गए.

MP में हवलदार, एएसआई, सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर और डीएसपी रैंक के 12810 पद खाली पड़े हैं. इसलिए प्रशासन शाखा का कहना है इन रिक्त पदों को ऑनरेरी प्रमोशन से भरा जा सकता है.

भोपाल. मध्य प्रदेश (MP) पुलिस में ऑनरेरी प्रमोशन अटके पड़े हैं. वजह ये है कि पुलिस मुख्यालय (PHQ) से भेजी गयी फाइल सामान्य प्रशासन विभाग में पेंडिंग हैं. बस इसी वजह से करीब 12000 से ज़्यादा पुलिस वालों का प्रमोशन नहीं हो पा रहा है.

एमपी पुलिस की ऑनरी प्रमोशन की फाइल गृह विभाग में अटकी है. एक महीने बाद भी गृह विभाग ने पुलिस मुख्यालय के प्रस्ताव का समाधान नहीं किया है. प्रमोशन नहीं होने से 12000 से ज्यादा कर्मचारियों का प्रमोशन भी अटक गया है और इसकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

बीच का रास्ता
आरक्षण में प्रमोशन का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है. इसलिए पुलिस मुख्यालय ने ऑनरी प्रमोशन का रास्ता निकाला था. पुलिस मुख्यालय की प्रशासन शाखा ने बीच का रास्ता निकालते हुए एक महीने पहले ऑनरेरी प्रमोशन की सिफारिश की थी.दरअसल प्रमोशन न होने के कारण पुलिस में इन्वेस्टिगेशन ऑफिसरों की कमी हो गयी है.प्रशासन शाखा ने ये कमी दूर करने के लिए बीच का रास्ता निकाला और पुलिस कर्मियों को ऑनरेरी प्रमोशन देने का प्रपोजल दिया.

गृह मंत्री भी सहमत
प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा कह चुके हैं कि प्रमोशन में आरक्षण का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है.गृह विभाग को पुलिस मुख्यालय की तरफ से प्रस्ताव मिला है.उन्होंने पुलिस कर्मियों को प्रमोशन देने की सिफारिश की है। इस मामले में विधि विशेषज्ञों की राय ली जा रही है. जो भी वैधानिक होगा उस काम को पूरा किया जाएगा.

इनवेस्टिगेशन ऑफिसर की कमी
मध्य प्रदेश पुलिस में 12810 इनवेस्टिगेशन ऑफिसर के पद खाली पड़े हैं.प्रस्ताव में बताया गया है कि अदालत के आदेश के अधीन रहते हुए इन पुलिसकर्मियों का प्रमोशन मान लिया जाए, ताकि इन सभी से संबंधित पदों के अनुसार पेंडिंग मामलों में जांच करवाई जा सके.

बिना प्रमोशन रिटायर
मई 2016 में पदोन्नति में आरक्षण का नियम खत्म कर देने से प्रमोशन पर रोक लग गई थी.यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. बीते दो साल में मप्र पुलिस के करीब 2000 पुलिसकर्मी बिना प्रमोशन के ही रिटायर हो चुके हैं. आगे भी ये संख्या बढ़ेगी. प्रदेश में हवलदार, एएसआई, सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर और डीएसपी रैंक के 12810 पद खाली पड़े हैं. इसलिए प्रशासन शाखा का कहना है इन रिक्त पदों को ऑनरेरी प्रमोशन से भरा जा सकता है. दूसरी सुरक्षा एजेंसी में पुलिस अधिकारी कर्मचारियों के काम के मापदंड को देखकर ऑनरेरी प्रमोशन दिया जाता है.

Tags: Madhya pradesh news, Madhya pradesh Police, Promotion, Reservation news, Supreme court of india

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर