अपना शहर चुनें

States

प्यारे मियां केस: हाथरस कांड की तरह पुलिस पीड़ि‍ता का शव ले गई श्मशान, CBI जांच की मांग

परिजनों को बिना बताए पुलिस करना चाह रही थी नाबालिग का अंतिम संस्कार.
परिजनों को बिना बताए पुलिस करना चाह रही थी नाबालिग का अंतिम संस्कार.

इस केस में गौर करने वाली ये है कि नाबालिग इस केस की न तो आरोपी थी और न ही अपराधी. वह केवल पीड़िता और फरियादी थी.

  • Last Updated: January 22, 2021, 1:35 PM IST
  • Share this:
भोपाल. प्यारे मियां यौन शोषण मामले में हाथरस कांड जैसी कार्रवाई देखने को मिली है. दरअसल, बुधवार को नाबालिग की मौत के बाद गुरुवार को पुलिस की निगरानी में दोपहर करीब 1.30 बजे उसका भदभदा विश्राम घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया. इस कार्रवाई को लेकर पुलिस का कहना है कि उसकी मौत नींद की गोलियां खाने की वजह से हुई, जबकि परिजनों का आरोप है कि उनकी बच्‍ची को शासकीय बालिका गृह में जहर दिया गया है.

जानकारी के मुताबिक, पुलिस नाबालिग के शव को हमीदिया अस्पताल से सीधे श्मशान घाट ले गई थी. बताया जाता है कि पीड़िता के चाचा और पिता ने शव को घर ले जाने की जिद की थी, लेकिन पुलिस ने उनकी एक न सुनी. इस बीच, बैरागढ़ एसडीएम मनोज उपाध्याय ने हमीदिया पहुंचकर परिजों को 2 लाख रुपए का चेक दिया. इसके बाद हबीबगंज सीएसपी भूपेंद्र सिंह ने पिता और चाचा को शव वाहन में बैठाकर विश्राम घाट रवाना कर दिया. बताया जाता है कि इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम नाबालिग के घर गई और कुछ और महिलाओं को विश्राम घाट ले आई.

पीड़ि‍ता की मां की हालत बेहद खराब
मां ने जब बेटी का शव को देखा तो वह स्तब्ध रह गईं. उनकी आंखें खुली थीं और जुबां थमी हुई थी. दरअसल, बुधवार को बेटी की मौत की खबर मां को इसलिए नहीं दी गई थी कि कहीं उन्हें सदमा न लग जाए. पीड़ि‍ता की मां ने महिला थाना प्रभारी अजिता नायर, बाल कल्याण समिति के कृपा शंकर चौबे और बालिका गृह की अधीक्षिका एंटोनिया पर अपनी बेटी को जबरन गोलियां खिलाने का आरोप लगाया है. उन्होंने मुख्यमंत्री से सीबीआई जांच की मांग भी की है.




सीसीटीवी कैमरे खंगालेगी जांच टीम
इस पूरे घटनाक्रम को संदिग्ध को देखते हुए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं. घटना की मजिस्ट्रियल जांच कलेक्टर के आदेश पर एडीएम के निर्देशन में की जाएगी. जानकारी के मुताबिक, जहां घटना घटी वहां कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं है. इसलिए पास और सामने के मकानों में लगे कैमरे को जांचा जाएगा.

जानें पूरा मामला
प्यारे मियां यौन शोषण मामले में 5 फरियादी बालिका गृह में रह रही हैं. उनमें से एक नाबालिग को नींद की गोलियां खा लेने के कारण सोमवार रात संदिग्ध परिस्थितियों में हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया गया था. उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था. सूचना मिलते ही नाबालिग के परिजन भी अस्पताल पहुंच गए थे. उन्होंने बाल गृह पर लापरवाही बरतने के आरोप लगाए थे. मामले की गंभीरता को देखते हुए मंगलवार को कलेक्टर अविनाश लवानिया ने न्यायायिक जांच के आदेश दे दिए थे. पूरे मामले में कमला नगर थाना पुलिस ने मंगलवार को जांच शुरू कर दी थी. इसमें एक अन्य नाबालिग लड़की के बयान भी लिए गए, जिसके बाद उसकी भी तबीयत खराब हो गई. उसे जेपी अस्पताल ले जाया गया. यहां पर तीन घंटे भर्ती करने के बाद उसे डिस्चार्ज कर दिया गया. जांच के बाद बालिका गृह संरक्षण की अधीक्षिका एंटोनिया कुजूर इक्का को हटा दिया गया और नई अधीक्षिका योगिता मुकाती को नियुक्त किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज