8 दिन में 3 बार कराया कोरोना टेस्ट, 12 दिनों के बाद आई रिपोर्ट, SI ने तोड़ा दम

भोपाल के पुलिसकर्मी की कोरोना रिपोर्ट समय पर मिल जाती तो शायद जान बच जाती.  (सांकेतिक तस्वीर)

भोपाल के पुलिसकर्मी की कोरोना रिपोर्ट समय पर मिल जाती तो शायद जान बच जाती. (सांकेतिक तस्वीर)

MP News: भोपाल के गांधी नगर थाने के SI मोहन पटेल. पटेल की 28 अप्रैल को मौत हो गई. उनका 8 दिन में 3 बार कोरोना टेस्ट कराया गया था. संक्रमण फैलता गया और उनका निधन हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 11:53 AM IST
  • Share this:
भोपाल. कोरोना संक्रमण के बीच सरकारी सिस्टम कितनी चुस्ती से काम कर रहा है, इसका अंदाजा इस खबर से हो जाता है. एक SI ने आठ दिन के अंदर तीन बार कोरोना टेस्ट कराया, लेकिन पहले गफलत और फिर रिपोर्ट आने में हुई देरी की वजह से वे जिंदगी की जंग हार गए.

गौरतलब है कि राजधानी के गांधी नगर थाने के SI मोहन पटेल (61) की कोरोना से मौत हो गई. 10 अप्रैल को उन्हें बुखार आया. इसके बाद उन्होंने रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया. लेकिन रिपोर्ट निगेटिव थी और संक्रमण के लक्षण बढ़ते जा रहे थे. इस बीच 15 अप्रैल को उन्होंने RTPCR टेस्ट भी कराया, लेकिन 3 दिन के बाद भी रिपोर्ट नहीं आई. इस रिपोर्ट के इंतजार के बीच उन्होंने 18 अप्रैल को एक बार फिर टेस्ट कराया. इस रिपोर्ट आने में 4 दिन लग गए.

किडनी इंफेक्शन से भी जूझ रहे थे पटेल

22 अप्रैल को पटेल कोरोना पॉजिटिव पाए गए. उन्हें चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया. लेकिन 12 दिन में संक्रमण बहुत ज्यादा बढ़ चुका था. जांच में पता चला कि पटेल किडनी के इंफेक्शन से भी जूझ रहे थे. वे दो दिन डायलिसिस पर रहे. आखिरकार बुधवार को सुबह 11 बजे दुनिया को अलविदा कह दिया.  उनकी मौत की वजह हार्ट अटैक बताई जा रही है.
समय पर मिलती रिपोर्ट, तो शायद बच जाती जान

बताया जाता है कि पटेल का रिटायरमेंट जून में था. यदि समय पर रिपोर्ट मिल जाती तो शायद जान बच जाती. मोहन पटेल की बेटी विदेश में, एक बेटा पुणे, एक बेटा इंदौर में जॉब करता है. इलाज के दौरान पुलिस टीम के सदस्य लगातार पटेल की पत्नी के संपर्क में थे.

एमपी में तेजी से बढ़ रहा वायरस



मध्य प्रदेश कोरोना संक्रमण जबरदस्त तेजी से बढ़ रहा है. प्रदेश में कोरोना के आज 12758 नये केस सामने आए. लेकिन उससे ज़्यादा 14156 लोग स्वस्थ होकर घर लौटे. प्रदेश में कुल 105 लोगों की मौत हो गयी और अभी प्रदेश भर में कोरोना के 92773 एक्टिव मरीज हैं.  इसके चलते अब सरकार ने सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. इसी के चलते अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 7 मई तक कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने का ऐलान किया है. सीएम शिवराज सिंह ने आज 18 जिलों की वर्चुअल मीटिंग लेकर कोरोना के हालात की समीक्षा की थी.

उन्होंने कहा संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सख्ती जरूरी है. सभी को अपनी अपनी जिम्मेदारी निभानी पड़ेगी. कोरोना गाइड लाइन का सख्ती से पालन करें. जनता को जागरूक कर कर्फ्यू का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराना ही होगा. सीएम ने कहा जनता कर्फ्यू कोई लॉकडाउन नहीं है. जनता का स्वयं संक्रमण से सुरक्षा के लिए लिया गया निर्णय है. प्रदेश की लगभग 90 प्रतिशत ग्राम पंचायतें, अपने गांवों में कोरोना कर्फ्यू लगाने का खुद ही संकल्प ले चुकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज