चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस से बढ़ गयीं MP के नेताओं की धड़कन, जानिए उस एक घंटे में क्या-क्या हुआ 

आचार संहिता के डर से सीएम शिवराज के दो कार्यक्रम एक में ही निपटा लिए गए.
आचार संहिता के डर से सीएम शिवराज के दो कार्यक्रम एक में ही निपटा लिए गए.

उप चुनाव के प्रचार के लिए सिंधिया और शिवराज (Scindia-Shivraj) को साथ-साथ गुना-सुरखी और सांची रवाना होना था. लेकिन दोनों तब तक भोपाल में ही रुके रहे जब तक साफ नहीं हो गया कि उपचुनाव की तारीख का ऐलान आज नहीं हो रहा है.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (MP) में 28  विधानसभा सीटों (Assembly seat) पर उपचुनाव का इंतजार थोड़ा और बढ़ गया है. चुनाव आयोग के इस ऐलान के बावजूद कि मध्यप्रदेश में विधानसभा उप चुनाव भी बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही करा लिए जाएंगे,आयोग ने आज उप चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया.

सुबह यह खबर आते ही कि चुनाव आयोग दोपहर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुनाव तारीख का ऐलान करेगा  सियासी गलियारों में हलचल मच गयी. पूरी उम्मीद थी कि बिहार के साथ ही मध्य प्रदेश विधान सभा उप चुनाव की तारीखों का भी ऐलान हो जाएगा. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. चुनाव आयोग ने कहा मध्यप्रदेश में उपचुनाव के लिए 29 सितंबर को बैठक होगी और फिर उसके बाद तारीख तय होगी. आयोग के इतना कहने से पहले तक एमपी के तमाम नेताओं की धड़कन बढ़ी रही. इस बात के डर से कि आचार संहिता आज ही प्रभावी हो जाएगी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कल के एक कार्यक्रम को आज ही निपटा लिया गया.यहां तक कि अधिकारियों के ट्रांसफर पोस्टिंग की लंबी चौड़ी लिस्ट भी जारी हो गई. इसे लेकर विपक्ष ने कई सवाल भी खड़े किए.

मिंटो हॉल में थे सीएम
चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का भोपाल के मिंटो हॉल में छात्रों को लैपटॉप के लिए पैसे देने का एक कार्यक्रम रखा गया था. यह कार्यक्रम पहले से तय था. लेकिन ये जानकारी मिलते ही कि आचार संहिता प्रभावी हो सकती है लगे हाथ शनिवार को होने वाला किसान कल्याण निधि का कार्यक्रम भी निपटा लिया गया.हालांकि बाद में ये साफ होते ही कि एमपी उपचुनाव की तारीखों का ऐलान आयोग ने नहीं किया है किसान कल्याण निधि के कार्यक्रम को फिर शनिवार को शेड्यूल कर दिया गया.
रुके रहे सिंधिया-शिवराज


उप चुनाव के प्रचार पर रवाना होने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया भी भोपाल में मौजूद थे उन्हें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ गुना सुरखी सांची के प्रचार के लिए रवाना होना था. सिंधिया भोपाल के वीआईपी रेस्ट हाउस में रुके हुए थे. लेकिन दोनों नेता तब तक रवाना नहीं हुए जब तक कि ये साफ नहीं हो गया कि आज एमपी में उपचुनाव की तारीख का ऐलान नहीं हो रहा है यानि आचार संहिता आज से प्रभावी नहीं हो रही है.

जीत के होने लगे दावे
उधर चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले ही बीजेपी और कांग्रेस में अपनी-अपनी जीत के दावे का सिलसिला शुरू हो गया. सरकार में कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने दावा किया कि उप चुनाव में जनता कांग्रेस को जवाब देगी और बीजेपी बहुमत के साथ चुनाव जीतेगी. वहीं कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे बिजेंद्र सिंह राठौर ने इसके उलट कहा कि बीजेपी ने यह चुनाव जनता पर थोपा है. लिहाजा जनता बीजेपी को जवाब देगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज