पुण्यतिथि पर बीजेपी दफ्तर में याद किए गए माधवराव सिंधिया, कांग्रेस ने कसा तंज

कांग्रेस दफ्तर में साथियो ने माधवराव सिंधिया को याद किया.
कांग्रेस दफ्तर में साथियो ने माधवराव सिंधिया को याद किया.

कांग्रेस नेता (Congress Leader) सज्जन सिंह वर्मा ने कहा बीजेपी (BJP) को उन्हीं नेताओं से मतलब होता है, जो उनके काम के होते हैं.

  • Share this:
भोपाल.आज कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया की पुण्यतिथि है. कांग्रेस (Congress) में उनके साथ रहे नेताओं ने तो सिंधिया को याद किया ही, उस बीजेपी (BJP) दफ्तर में माधवराव को श्रद्धांजलि दी गयी जिसके वो विरोधी थे. बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने का ये असर था कि पहली बार पार्टी दफ्तर में माधवराव के लिए श्रद्धांजलि कार्यक्रम रखा गया.

कांग्रेस के दिग्गज नेता  और ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिताजी माधवराव सिंधिया की आज पुण्यतिथि है. इस मौके पर कांग्रेस दफ्तर में श्रद्धांजलि कार्यक्रम होना तो स्वाभाविक है लेकिन पहली बार बीजेपी दफ्तर में भी श्रद्धांजलि कार्यक्रम हुआ. पार्टी छोड़ने के बाद माधवराव जीवनभर कांग्रेस में रहे. राजीव गांधी के निधन के बाद नरसिंह्मराव से मतभेद होने के कारण उन्होंने अलग पार्टी बना ली लेकिन कभी बीजेपी में नहीं गए. लेकिन बेटा ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में शामिल हो गया. यही वजह है कि अब बीजेपी दफ्तर में भी माधवराव सिंधिया के लिए श्रद्धांजलि कार्यक्रम हुआ. उनकी फोटो रखकर भाजपाइयों ने उन्हें पुष्प अर्पित किए.





बेटे के कारण पिता को श्रद्धांजलि
प्रदेश कांग्रेस दफ्तर में माधवराव सिंधिया की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम हुआ. इसमें कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी, एनपी प्रजापति, सज्जन सिंह वर्मा, पीसी शर्मा और कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों ने माधवराव सिंधिया को पुष्प और श्रद्धा सुमन अर्पित किए.सुरेश पचौरी ने कहा माधवराव सिंधिया विश्वसनीय नेता थे. आखिरी सांस तक कांग्रेस पार्टी में रहे. माधवराव सिंधिया राजीव गांधी के सारथी थे.कांग्रेस पार्टी माधवराव सिंधिया को पूरे मन से श्रद्धा सुमन अर्पित करती है.

जिसके विरोधी थे उसी दफ्तर में माधवराव को श्रद्धांजलि
कांग्रेस ने बीजेपी दफ्तर में हुए कार्यक्रम पर तंज कसा. कहा ज्योतिरादित्य के कारण वहां सिर्फ औपचारिकता भर निभायी गयी. उन्हें श्रद्धांजलि देने पार्टी का कोई बड़ा नेता नहीं आया. सज्जन सिंह वर्मा ने कहा बीजेपी को उन्हीं नेताओं से मतलब होता है, जो उनके काम के होते हैं. बीजेपी नेता उन्हीं का स्तुति गान करते हैं. सज्जन सिंह वर्मा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को बीजेपी नेताओं की आंख की किरकिरी बताया.इसी कारण भाजपाइयों ने माधवराव सिंधिया के पुण्यतिथि कार्यक्रम से दूरी बनाकर रखी. बीजेपी को पुण्यतिथि का कार्यक्रम पूरे मन से आयोजित करना चाहिए था.

बीजेपी को जवाब
दरअसल माधवराव सिंधिया रॉयल फैमिली से राजनीति में आए थे उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1971 में जनसंघ से की थी. लेकिन कांग्रेस में आने के बाद फिर उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. माधवराव सिंधिया कांग्रेस के बड़े नेताओं में से एक थे और यही कारण है कि अब ग्वालियर चंबल में होने वाले 16 विधानसभा सीट के उपचुनाव पर सिंधिया घराने की तरफ से ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी का चेहरा हो गए हैं. कांग्रेस ने भी माधवराव सिंधिया की पुण्यतिथि पर बड़ा कार्यक्रम कर बीजेपी को बड़ा जवाब देने की कोशिश की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज