MP में क्या अनट्रेंड नर्सिंग स्टूडेंट लगा रहे हैं कोरोना वैक्सीन, NSUI ने CM शिवराज को लिखी चिट्ठी

NSUI मेडिकल विंग के नेता रवि परमार ने ट्रेंड स्टाफ से वैक्सिनेशन करवाने की मांग की है.

NSUI मेडिकल विंग के नेता रवि परमार ने ट्रेंड स्टाफ से वैक्सिनेशन करवाने की मांग की है.

एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने बताया कि स्टूडेंट टीकाकरण कर रहे हैं वह ना तो रजिस्टर्ड हैं और ना ही ठीक से प्रशिक्षित हैं. ऐसी स्थिति में अगर कोई अनहोनी होगी तो उसका जिम्मेदार कौन होगा.

  • Share this:
भोपाल. ये खबर आपको चौंका सकती है. मध्यप्रदेश में कोरोना (Corona) के टीकाकरण अभियान में अनट्रेंड नर्सिंग स्टूडेंट्स की ड्यूटी लगा दी गयी है. भोपाल सहित कई जिलों में अप्रशिक्षित नर्सिंग छात्र छात्राओं से कोविड-19 का टीकाकरण करवाया जा रहा है. एनएसयूआई (NSUI) की मेडिकल विंग ने ऐसा आरोप लगाया है. उसने सरकार का ध्यान इस ओऱ दिलाया है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखी है.

एनएसयूआई की मेडिकल विंग ने अप्रशिक्षित नर्सिंग स्टूडेंट्स की जगह नर्सिंग कॉलेजों के प्रशिक्षित स्टाफ की ड्यूटी लगाने की मांग की है. साथ ही ये भी कहा है कि सरकारी नर्सिंग स्टाफ को दी जाने वाली सुविधा और वेतन नर्सिंग छात्र छात्राओं को दे दिया जाए.

सीएम को चिट्ठी

एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने कहा प्रदेश में वर्तमान समय में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है. ऐसी स्थिति में भोपाल सहित कई जिलों में अप्रशिक्षित नर्सिंग छात्र छात्राओं को कोरोना वैक्सिनेशन के काम में लगा दिया गया है.
स्टूडेंट का न तो रजिस्ट्रेशन है, न ही ट्रेंड हैं

रवि परमार ने बताया कि जो स्टूडेंट टीकाकरण कर रहे हैं वह ना तो रजिस्टर्ड हैं और ना ही ठीक से प्रशिक्षित हैं. ऐसी स्थिति में अगर कोई अनहोनी होगी तो उसका जिम्मेदार कौन होगा. उन्होंने कहा छात्राएं अपने स्वास्थ्य को लेकर अत्यधिक परेशान हैं. कॉलेजों के दबाव में छात्र छात्राओं को टीकाकरण में ड्यूटी करना पड़ रही है. इसलिए कई जिलों में नर्सिंग इन स्टूडेंट्स को कोरोना हो गया है. इसलिए ये लोग और परेशान हैं.

रजिस्टर्ड स्टाफ की ड्यूटी की मांग



परमार ने कहा प्रदेश में रजिस्टर्ड और प्रशिक्षित स्टाफ नर्स की कमी नहीं है. कई नर्स बेरोजगार हैं. उन्हें रोजगार दिया जाए या फिर नर्सिंग कॉलेजों के शिक्षक और नर्सिंग कॉलेजों के अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ से टीकाकरण करवाया जाए.

अपने पैसे से खरीद रहे हैं सेनेटाइजर

रवि परमार ने सरकार पर आरोप लगाया है कि सरकार मुफ्त में छात्र-छात्राओं का शोषण कर रही है. नर्सिंग छात्र छात्राओं को टीकाकरण करने पर ना तो कोई सुविधा दी जा रही है ना ही  उन्हें किसी प्रकार का मानदेय दिया जा रहा है. बल्कि वो मास्क सैनेटाइजर  भी अपने खुद  के पैसों से खरीद रहे हैं.



उग्र प्रदर्शन की चेतावनी

परमार ने सरकार से कहा अगर आपको नर्सिंग छात्र छात्राओं से टीकाकरण करवाना है तो पहले तो उन्हें वैक्सीन लगवायी जाए. एनएसयूआई ने चेतावनी दी कि अगर जल्दी मांगें नहीं मानी गईं तो एनएसयूआई मेडिकल विंग उग्र प्रदर्शन करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज