अपना शहर चुनें

States

MP News: विधानसभा अध्यक्ष तो निर्विरोध चुन लिए गए, उपाध्यक्ष के लिए क्या बीजेपी उतारेगी उम्मीदवार!

आज सीएम शिवराज ने पूर्व सीएम कमलनाथ से मुलाकात की.
आज सीएम शिवराज ने पूर्व सीएम कमलनाथ से मुलाकात की.

BHOPAL-मध्यप्रदेश विधानसभा (MP Assembly) में यह परंपरा 2018 से पहले तक रही थी कि सत्ता पक्ष के पास स्पीकर का पद रहता था. जबकि डिप्टी स्पीकर का विपक्ष का होता था., लेकिन 2018 में कांग्रेस सरकार ने दोनों पद अपने पास रखे.

  • Share this:
भोपाल. गिरीश गौतम मध्य प्रदेश विधानसभा (MP Assembly)  के निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिए गए हैं. उनके निर्विरोध चुने जाने के बाद अब सवाल यह खड़ा हो रहा है कि क्या विधानसभा में डिप्टी स्पीकर (Deputy speaker) भी निर्विरोध चुना जाएगा या फिर डिप्टी स्पीकर को लेकर पुरानी परंपरा बरकरार रहेगी?

इन सब सवालों के बीच सोमवार को विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद डिप्टी स्पीकर के चुनाव को लेकर दोनों पक्ष के नेताओं के बयान सामने आते रहे. पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने कहा कि हमने सदन की परम्परा को बरकरार रखा. हमारी सरकार में बीजेपी ने परंपरा तोड़ी थी. उम्मीद है परंपरा के मुताबिक सत्तापक्ष अब उपाध्यक्ष का पद विपक्ष को देगा. हालांकि सत्तापक्ष की ओर से फिलहाल ऐसे संकेत नहीं मिले हैं कि उपाध्यक्ष का पद विपक्ष को दिया जाना है. मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने जयवर्धन के बयान पर कहा  कि कांग्रेस को खुद का आंकलन करना चाहिए और सोचना चाहिए उन्होंने क्या किया था.

क्या है तकरार की वजह
मध्य प्रदेश विधानसभा में यह परंपरा 2018 से पहले तक रही थी कि सत्ता पक्ष के पास स्पीकर का पद रहता था. जबकि डिप्टी स्पीकर का विपक्ष का होता था, लेकिन 2018 में कांग्रेस सरकार के दौरान यह परंपरा टूट गई. स्पीकर डिप्टी स्पीकर दोनों पद सत्ता पक्ष ने अपने पास रखे. परंपरा टूटने के बाद दोनों एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे. कांग्रेस का आरोप यह है कि बीजेपी ने स्पीकर के पद के लिए उम्मीदवार उतारकर परंपरा तोड़ने पर मजबूर किया था. बीजेपी परंपरा तोड़ने के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराती है.



स्पीकर निर्विरोध निर्वाचित
हालांकि सियासी तकरार के बीच विधानसभा के बजट सत्र में कांग्रेस का रुख नरम दिखाई दिया. बजट सत्र के पहले दिन जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गिरीश गौतम के नाम का प्रस्ताव रखा तो नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने विपक्ष की ओर से प्रस्ताव का समर्थन किया. कांग्रेस ने अपना कोई उम्मीदवार अध्यक्ष पद के लिए नहीं उतारा. ऐसे में अब यह सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या कांग्रेस के इस कदम को देखते हुए बीजेपी यानि सत्ता पक्ष डिप्टी स्पीकर के लिए अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी. बजट सत्र शुरू होने से पहले सीएम शिवराज और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ की मुलाकात इसी ओर इशारा कर रही है कि डिप्टी स्पीकर का पद विपक्ष के पास ही रहेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज