Home /News /madhya-pradesh /

MP में OBC आरक्षण पर क्या 2018 जैसे हालात बनेंगे, सपाक्स फिर दिखा रही है आंख

MP में OBC आरक्षण पर क्या 2018 जैसे हालात बनेंगे, सपाक्स फिर दिखा रही है आंख

2018 के विधानसभा चुनाव जब हुए तब सपाक्स पार्टी को कोई जनता का बहुत ज्यादा समर्थन नहीं मिला था

2018 के विधानसभा चुनाव जब हुए तब सपाक्स पार्टी को कोई जनता का बहुत ज्यादा समर्थन नहीं मिला था

Bhopal : 2018 में दलित आंदोलन के दौरान अजाक्स और सपाक्स के बीच हुई खींचतान में तत्कालीन शिवराज सरकार को ग्वालियर चंबल संभाग में सियासी तौर पर नुकसान उठाना पड़ा था. जिसका खामियाजा उसे सत्ता से बाहर होकर भी चुकाना पड़ा.

भोपाल. OBC को 27% आरक्षण (OBC Reservation) देने के मुद्दे पर जारी सियासत के बीच अब इसकी मुखालफत करने वाले संगठन भी मैदान में आ गए हैं. 2018 में दलित आंदोलन के दौरान सक्रिय हुई सपाक्स ने एक बार फिर सरकार को अल्टीमेटम दे दिया है. पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष और रिटायर्ड आईएएस अधिकारी वीणा घाणेकर ने कहा पार्टी जातिगत आधार पर आरक्षण का विरोध करती है और जिस तरीके से मध्य प्रदेश में ओबीसी को 27% आरक्षण देने के लिए सरकार पहल कर रही है वह उचित नहीं है.

सपाक्स पार्टी ने ऐलान किया है कि जल्द ही वह सरकार के इस कदम के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करेगी.

उपचुनाव में बनेगा मुद्दा
राजनीतिक तौर पर सामान्य वर्ग का प्रतिनिधित्व करने के लिए उभरी सपाक्स पार्टी ने कहा है कि आरक्षण आर्थिक स्थिति के आधार पर होना चाहिए ना कि जातिगत आधार पर. लेकिन ऐसा होता दिखाई नहीं दे रहा है. लिहाजा सपाक्स आने वाले दिनों में प्रदेश की 4 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में अपने उम्मीदवार खड़ा करेगी और जातिगत आरक्षण को मुद्दा बनाएगी.

ये भी पढ़ें-INDORE के नाम एक और रिकॉर्ड : पहला शहर जहां दो बाजारों को मिला क्लीन स्ट्रीट फूड हब का टैग

2018 में बना था मुद्दा
इससे पहले 2018 में दलित आंदोलन के दौरान अजाक्स और सपाक्स के बीच हुई खींचतान में तत्कालीन शिवराज सरकार को ग्वालियर चंबल संभाग में सियासी तौर पर नुकसान उठाना पड़ा था. जिसका खामियाजा उसे सत्ता से बाहर होकर भी चुकाना पड़ा.

कितना होगा असर ?
2018 के विधानसभा चुनाव जब हुए तब सपाक्स पार्टी को कोई जनता का बहुत ज्यादा समर्थन नहीं मिला था. उसके बाद हुए लोकसभा चुनाव और उप चुनावों में भी पार्टी कोई बहुत ज्यादा असर नहीं छोड़ पाई. ऐसे में एक सवाल यह भी खड़ा होता है कि क्या ओबीसी आरक्षण के मुद्दे पर जारी सियासत में सपाक्स की नाराजगी कोई असर दिखा भी पाएगी.

Tags: Kamal Nath government, OBC Bill, OBC Politics, OBC Reservation, OBC आरक्षण, Shivraj government

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर