होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /नामीबिया से लाए गए 8 में से एक मादा चीता दो दिन से बीमार, किडनी में इन्‍फेक्‍शन; कूनो अभयारण्‍य पहुंची स्‍पेशल टीम

नामीबिया से लाए गए 8 में से एक मादा चीता दो दिन से बीमार, किडनी में इन्‍फेक्‍शन; कूनो अभयारण्‍य पहुंची स्‍पेशल टीम

MP News: श्योपुर के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाई गई मादा चीता बीमार है. उसे दो दिनों से किडनी में इन्फेक्शन, डिहाइड्रेशन है. (Photo-News18)

MP News: श्योपुर के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाई गई मादा चीता बीमार है. उसे दो दिनों से किडनी में इन्फेक्शन, डिहाइड्रेशन है. (Photo-News18)

Sheopur News: कूनो नेशनल पार्क में हड़कंप मचा हुआ है. दरअसल, यहां 5 साल की मादा चीता शाशा की तबीयत खराब हो गई है. इसे ह ...अधिक पढ़ें

भोपाल/श्योपुर. मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले से बड़ी खबर है. यहां कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए गए 8 में से एक मादा चीता बीमार है. उसे पिछले दो दिनों से किडनी में इन्फेक्शन, डिहाइड्रेशन (दस्त) है. उसके शरीर में पानी की कमी हो गई है.  इसकी सूचना लगते ही कूनो वन मंडल के अधिकारियों के बीच हड़कंप मच गया. मादा चीता के इलाज के लिए भोपाल वन विहार की टीम पहुंच गई है. डॉक्टरों ने इसे अपनी निगरानी में रख रखा है.

जानकारी के मुताबिक, 5 साल की इस मादा चीता का नाम शाशा है. उसे कूनो के बड़े बाड़े में रखा गया है. भोपाल वन विहार की टीम ने शाशा को ड्रिप और कई जरूरी इंजेक्शन लगा दिए हैं. उसके बाद उसकी सेहत में सुधार बताया जा रहा है. लेकिन, तबीयत पूरी तरह सामान्य न होने की वजह से डॉक्टरों ने उसे अपनी निगरानी में रखा है.

कूनो नेशनल पार्क में देखना है नामीबिया से आए चीते, तो ज़रूर बनाएं यहां जाने का प्लान, ऐसे पहुंचें 

पीएम ने जन्मदिन पर नेशनल पार्क में छोड़े थे चीते
गौरतलब है कि पिछले साल सितंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुनो राष्ट्रीय उद्यान में नामीबिया से लाए गए चीतों को विशेष बाड़े में छोड़ा था. पिछले साल 17 सितंबर को अपना 72वां जन्मदिन मना रहे पीएम मोदी ने चीतों की तस्वीरें भी खीची थीं. उन्होंने जैसे ही नेशनल पार्क में लीवर घुमाया था, वैसे ही चीते विशेष बाड़े में चले गए थे. चीते धीरे-धीरे पिंजड़ों से बाहर आए. बता दें, 1952 में चीते को भारत में विलुप्त घोषित किया गया था.

विशेष विमान से लाए गए थे चीते
भारत में चीतों के विलुप्त होने के सात दशक बाद उन्हें फिर से देश में बसाने की परियोजना तैयार की गई. इसी परियोजना के तहत नामीबिया से आठ चीते कूनो राष्ट्रीय उद्यान पहुंचे थे. उन्हें विशेष विमान से ग्वालियर हवाई अड्डे और फिर हेलीकॉप्टरों से श्योपुर जिले में लाया गया था. कूनो नेशनल पार्क विंध्याचल की पहाड़ियों के उत्तरी किनारे पर स्थित है. यह 344 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. देश में अंतिम चीते की मौत 1947 में कोरिया जिले में हुई थी. कोरिया छत्तीसगढ़ में स्थित है.

Tags: Mp news, Sheopur news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें