होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /पीएफआई के ठिकानों पर आज फिर ताबड़तोड़ छापे, एमपी में 21 संदिग्ध गिरफ्तार

पीएफआई के ठिकानों पर आज फिर ताबड़तोड़ छापे, एमपी में 21 संदिग्ध गिरफ्तार

पीएफआई के ठिकानों पर छापे की ये कार्रवाई एमपी एटीएस ने की.

पीएफआई के ठिकानों पर छापे की ये कार्रवाई एमपी एटीएस ने की.

MP Big News. एमपी पुलिस औऱ एटीएस ने पीएफआई के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारकर कुछ लोगों को पकड़ा है. एमपी में भोपाल, इं ...अधिक पढ़ें

भोपाल. देश भर में आज फिर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के ठिकानों पर छापे मारे गए. छापे की ये कार्रवाई 8 राज्यों में की गयी. मध्य प्रदेश में भी एमपी पुलिस ने पीएफआई के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारे. इस कार्रवाई में पीएफआई के 8 जिलों से 21 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. इससे पहले पिछले हफ्ते एनआईए के देशभर में पड़े छापों में मध्य प्रदेश से भी पीएफआई के 4 नेता पकड़े गए थे. उनसे मिली जानकारी के आधार पर ही आज और 4 लोग पकड़े गए.

PFI केस में बड़ी खबर आ रही है. इस संगठन के ठिकानों पर देश भर में आज फिर छापा मारा गया. एमपी के साथ 7 राज्यों में छापे की ये कार्रवाई की जा रही है. उत्तरप्रदेश , मध्यप्रदेश , पंजाब , दिल्ली ,केरल ,गुजरात , कर्नाटक औऱ असम में पीएफआई के दफ्तरों और नेताओं के घरों पर छापे मारे गए.

ये भी पढ़ें- चीतों से आबाद श्योपुर पर थी PFI की नजर, ट्रेनिंग सेंटर बनाकर देश को दहलाने की साजिश

PFI के 4 और सदस्य गिरफ्तार
एमपी पुलिस औऱ एटीएस ने पीएफआई के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारकर कुछ लोगों को पकड़ा है. एमपी में भोपाल, इंदौर, उज्जैन समेत करीब 8 जिलों में छापे पड़े. इसमें एटीएस ने 21 संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया. इनमें से 3 सदस्यों को इंदौर और एक को भोपाल में पकड़ा गया. जिन लोगों के नाम की पुष्टि हुई उनमें इंदौर से तौसीफ अहमद, यूसुफ मौलानी, दानिश गौरी शामिल हैं. भोपाल से अब्दुल रउफ बेलिम को पकड़ा गया. बेलिम भी इंदौर का रहने वाला है. लेकिन जिला बदर की कार्रवाई के बाद से वो भोपाल में रह रहा था. इन लोगों को इससे पहले एनआईए की कार्रवाई में पकड़े गए PFI के चार बड़े नेताओं से मिली जानकारी के आधार पर की गयी.

श्योपुर पर थी नजर
मध्यप्रदेश में पीएफआई मामले में जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे कई बड़े खुलासे हो रहे हैं. पीएफआई के नेटवर्क को लेकर कई जानकारियां जांच एजेंसियों के हाथ लगी हैं. सूत्रों ने बताया कि कोटा के बाद प्रदेश के श्योपुर को पीएफआई अपना दूसरा बड़ा ट्रेनिंग सेंटर बनाने जा रहा था. इसकी तैयारी भी की जा रही थी और इनका मकसद प्रदेश को अपना गढ़ बनाने का था. मध्यप्रदेश में कूनो में चीतों के आने के बाद श्योपुर जिला चर्चा में है, लेकिन अगर सुरक्षा एजेंसिया सतर्क नहीं होतीं तो ये जिला एक गलत काम के लिए चर्चा में आ जाता. पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया मध्य प्रदेश के श्योपुर को अपना ट्रेनिंग सेंटर बनाने की फिराक में था. यहां युवाओं को देशद्रोही और समाज में विध्वंस फैलाने की ट्रेनिंग दी जाती.

Tags: Breaking news in hindi, Madhya pradesh latest news, PFI, Terror Funding

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें