MP-UP के बीच 7 मई तक नहीं चलेंगी बसें, क्या इससे थम जाएगी कोरोना की रफ्तार

कोरोना की वजह से मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच फिलहाल बस सेवा को बंद कर दिया गया है.

कोरोना की वजह से मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच फिलहाल बस सेवा को बंद कर दिया गया है.

Corona Effect: अब 7 मई तक MP-UP के बीच बसें नहीं चलेंगी. सरकार का मानना है कि इससे कोरोना की रफ्तार को कम किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 1:55 PM IST
  • Share this:
भोपाल. कोरोना संक्रमण की लगातार बढ़ रही रफ्तार के बीच मप्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच बस सेवा 7 मई तक पूरी तरह बंद कर दी है. परिवहन विभाग ने इसका सर्कुलर जारी कर दिया है.

गौरतलब है कि प्रदेश में कोरोना बेकाबू हो गया है. कोरोना कर्फ्यू को सरकार ने 7 मई तक बढ़ा दिया है. भोपाल में कोरोना कर्फ्यू 10 मई तक लागू कर दिया गया है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार बैठकें कर रहे हैं. उनका अधिकारियों से कहना है कि कैसे भी हो कोरोना की रफ्तार कम करो.

प्रदेश की बुरी हालत

प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 12,762 नए मामले सामने आए हैं. इस दौरान 95 लोगों की मौत भी हुई है. लगातार एक महीने तक कोरोना के एक्टिव मामलों में रोज इजाफा हुआ. पॉजिटिविटी रेट 21% पर पहुँच गया है. हालांकि स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक नए संक्रमितों की तुलना में स्वस्थ्य होने वालों की संख्या ज्यादा है. रिकवरी रेट 82% है.
वैक्सीन को मानें राष्ट्रीय फर्ज: गृह मंत्री

इधर, गृह मंत्री ने कहा कि कोरोना का स्थायी इलाज वैक्सीन है, दावा किया जा रहा है कि. लॉक डाउन के सुखद परिणाम आना शुरू हो गए हैं. अब नए केस कम और स्वस्थ होकर लौटने वालों की संख्या ज्यादा बताई गई है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमण की खुद मॉनिटरिंग कर रहे हैं. उन्होंने बुधवार को 18 जिलों की समीक्षा की थी. आज 17 जिलों की समीक्षा होगी और कल शुक्रवार को भी 17 जिलों की समीक्षा होगी.

ब्लैक मार्केटिंग करने वालों की संपत्ति जब्त होगी



गृह मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने यह भी कहा कि दवाओं की कालाबाजारी करने वालों की संपत्ति जब्त होगी. मरीजों के परिजन अस्पतालों में भीड़ न लगाएं, इससे संक्रमण ज्यादा फैल सकता है. अशोक नगर में ऑक्सीजन की कमी से 3 लोगों की मौत पर गृह मंत्री ने कहा कि कुछ खबरें सत्य नहीं होतीं. व्यवस्था में कमी हो सकती है, लेकिन उपलब्धता में नहीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज