होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

सनसनीखेज: 4000 रुपये देकर भारत में घुस रहे हैं आतंकवादी, मप्र समेत 10 राज्यों में स्लीपर सेल

सनसनीखेज: 4000 रुपये देकर भारत में घुस रहे हैं आतंकवादी, मप्र समेत 10 राज्यों में स्लीपर सेल

JMB Terrorist News. इस आतंकवादी संगठन का नेटवर्क ध्वस्त करने के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है. एसआईटी को डीएसपी रैंक के अधिकारी लीड कर रहे हैं.

JMB Terrorist News. इस आतंकवादी संगठन का नेटवर्क ध्वस्त करने के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है. एसआईटी को डीएसपी रैंक के अधिकारी लीड कर रहे हैं.

Madhya Pradesh Terror Alert: आतंकवादियों ने पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. सूत्रों के अनुसार उन्होंने एटीएस को बताया है कि चार में से तीन आतंकवादी त्रिपुरा से दाखिल हुए थे. इसके बाद चारों आतंकवादियों ने बंगाल, असम, उत्तर प्रदेश में अपना ठिकाना बनाया. फिर दूसरे राज्यों में रुकते हुए मध्य प्रदेश पहुंचे. भारत-बांग्लादेश के दोनों तरफ दलालों का नेटवर्क सक्रिय है, जो सीमा पार कराने के लिए 4 हजार रुपए लेते हैं. ज्यादातर दलाल ढाका में सक्रिय हैं. उनके सहयोगी सीमा से लगे गांवों में रहकर उनकी मदद करते हैं. पकड़े गए सभी आतंकी खुद को मजदूर और खेती किसानी से जुड़ा हुआ बताते हैं.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. राजधानी भोपाल से पकड़े गए प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जमात ए मुजाहिदीन बांग्लादेश के चार आतंकवादियों से जैसे-जैसे पूछताछ आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे कई बड़े और चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. बांग्लादेश से आतंकी चार हजार की दलाली देकर भारत में एंट्री करते थे. कई राज्यों में इन आतंकियों ने रिमोट बेस स्लीपर सेल तैयार कर ली हैं. तालिबान के अलावा अलकायदा संगठन से भी यह आतंकवादी प्रभावित थे. JMB आतंकी केस में एक बड़ा खुलासा ये भी हुआ है कि भोपाल में हाल ही में पकड़े गए 4 में से 3 आतंकवादी त्रिपुरा के रास्ते भारत में घुसे थे. घुसपैठ कराने के लिए सीमा पर दलाल सक्रिय रहते हैं. इन्हीं दलालों को 4-4 हजार रुपए देकर ये आतंकवादी भारत में घुसे थे. भारत-बांग्लादेश सीमा पर दोनों तरफ दलालों का जाल फैला हुआ है.

आतंकवादियों ने पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. सूत्रों के अनुसार उन्होंने एटीएस को बताया है कि चार में से तीन आतंकवादी त्रिपुरा से दाखिल हुए थे. इसके बाद चारों आतंकवादियों ने बंगाल, असम, उत्तर प्रदेश में अपना ठिकाना बनाया. फिर दूसरे राज्यों में रुकते हुए मध्य प्रदेश पहुंचे. भारत-बांग्लादेश के दोनों तरफ दलालों का नेटवर्क सक्रिय है, जो सीमा पार कराने के लिए 4 हजार रुपए लेते हैं. ज्यादातर दलाल ढाका में सक्रिय हैं. उनके सहयोगी सीमा से लगे गांवों में रहकर उनकी मदद करते हैं. पकड़े गए सभी आतंकी खुद को मजदूर और खेती किसानी से जुड़ा हुआ बताते हैं.

ये भी पढ़ें-मिशन 2023 के लिए पचमढ़ी में मंत्रियों के साथ मंथन करेंगे CM शिवराज, नोट कीजिए तारीख 

चारों हार्डकोर आतंकवादी

JMB आतंकी केस में एक बड़ा अपडेट ये है कि 10 राज्यों में रिमोट बेस स्लीपर सेल का खुलासा हुआ है. उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, झारखंड, बिहार, बंगाल, छत्तीसगढ़, असम, त्रिपुरा, दिल्ली, एमपी में स्लीपर सेल तैयार किए गए. चारों आतंकवादी एमपी के अलावा कई राज्यों में रुक चुके हैं. वो इतने हाईटेक हैं कि इंटरनेट वाइस कॉल से बांग्लादेश में बैठे अपने आकाओं से बात करते थे. ये तालिबान के साथ अलकायदा संगठन से भी प्रभावित थे. चारों हार्डकोर आतंकी हैं और आतंक फैलाने में पूरी तरह ट्रेंड हैं. साथ ही अच्छी हिंदी बोलते हैं.

ये भी पढ़ें- EXCLUSIVE : JMB आतंकवादियों का तालिबान से कनेक्शन, बांग्लादेश के इशारे पर कर रहे थे काम

शक से बचने के लिए हिंदी सीख ली है

चारों आतंकवादी फजहर अली, मोहम्मद अकील, जहूरुद्दीन और फजहर जैनुल आदिल, बांग्लादेश के जेएमबी के पूरी तरह ट्रेंड और हार्डकोर सदस्य हैं. किसी को शक ना हो इसलिए उन्होंने अच्छी हिंदी बोलना भी सीख लिया था. इसलिए किसी को उनके बांग्लादेशी होने का शक नहीं हुआ. सूत्रों के अनुसार पूछताछ में दस राज्यों उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, झारखंड, बिहार, बंगाल, छत्तीसगढ़, असम, त्रिपुरा, मप्र और दिल्ली में रिमोट बेस स्लीपर सेल का खुलासा हुआ है.

JMB का नेटवर्क ध्वस्त करेगी SIT

इस आतंकवादी संगठन का नेटवर्क ध्वस्त करने के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है. एसआईटी को डीएसपी रैंक के अधिकारी लीड कर रहे हैं. लेकिन एटीएस चीफ से लेकर तमाम बड़े अधिकारी इसकी मॉनिटरिंग और सुपरविजन कर रहे हैं. अभी तक पूछताछ के दौरान जितने भी खुलासे हुए उनकी तह तक जाने और उनके वेरिफिकेशन के लिए मध्य प्रदेश पुलिस दूसरे राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर काम कर रही है.

Tags: Madhya pradesh latest news, Terrorists Arrested

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर