होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

मिर्ची बाबा कैदी नंबर 1949 : 200 कैदियों के बीच जमीन पर बिस्तर, सोने के लिए 2 चादर और 3 कंबल

मिर्ची बाबा कैदी नंबर 1949 : 200 कैदियों के बीच जमीन पर बिस्तर, सोने के लिए 2 चादर और 3 कंबल

Mirchi Baba : मिर्ची बाबा को 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

Mirchi Baba : मिर्ची बाबा को 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

MP Big News. एक आम कैदी की तरह मिर्ची बाबा को भी नवीन आमद बैरक वार्ड में रखा गया है. अक्सर इस वार्ड में करीब 200 कैदी एक साथ रहते हैं. ऐसे में मिर्ची बाबा को 200 कैदियों के बीच में रहना पड़ेगा. मिर्ची बाबा को आम कैदी की तरह दो चादर, तीन पतले कंबल दिए गए हैं. वो जमीन पर ही लेटे हुए हैं उनकी सभी अय्याशी जेल में आने के बाद खत्म हो गई है.जेल में मिर्ची बाबा कैदी नंबर 1949 बन गए हैं. जेल मैनुअल के हिसाब से जेल के अंदर आने वाले हर विचाराधीन कैदी का रजिस्ट्रेशन किया जाता है. इसी रजिस्ट्रेशन के तहत उन्हें एक नंबर दिया जाता है मिर्ची बाबा को 1949 नंबर मिला है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. रेप के आरोप में पकड़े गए मिर्ची बाबा अब कैदी नंबर 1949 बन चुके हैं. भोपाल सेंट्रल जेल में 200 आरोपियों के बीच बाबा को रखा गया है. जमीन पर उनका बिस्तर है. जेल मैनुअल के हिसाब से उन्हें दो चादर, तीन पतले कंबल दिए गए हैं. सलाखों के पीछे उनकी सारी अय्याशी खत्म हो चुकी है. मिर्ची बाबा पर एक महिला ने संतान पैदा करने के लिए पूजा पाठ का झांसा देकर रेप करने का आरोप लगाया है. पिछले चुनाव में मिर्ची बाबा कांग्रेस के स्टार प्रचारक थे.

भोपाल की महिला थाना पुलिस ने एक महिला से रेप के आरोप में मिर्ची बाबा को कल आधी रात में ग्वालियर में गिरफ्तार किया था. पुलिस भोपाल लेकर आयी और कोर्ट में पेश किया. मिर्ची बाबा को 22 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. वो अब भोपाल सेंट्रल जेल में बंद है. जेल में मिर्ची बाबा कैदी नंबर 1949 बन गए हैं. जेल मैनुअल के हिसाब से जेल के अंदर आने वाले हर विचाराधीन कैदी का रजिस्ट्रेशन किया जाता है. इसी रजिस्ट्रेशन के तहत उन्हें एक नंबर दिया जाता है मिर्ची बाबा को 1949 नंबर मिला है.

200 कैदियों के बीच बाबा
भोपाल सेंट्रल जेल के अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि जेल में आने वाले विचाराधीन कैदियों की सबसे पहले गेट पर तलाशी ली जाती है. इसके बाद उन्हें अष्टकोण में भेजा जाता है. अष्टकोण में तमाम तफ्तीश करने के बाद कैदी को नवीन आमद बैरक वार्ड में रखा जाता है. नरगावे ने बताया कि एक आम कैदी की तरह मिर्ची बाबा को भी नवीन आमद बैरक वार्ड में रखा गया है. अक्सर इस वार्ड में करीब 200 कैदी एक साथ रहते हैं. ऐसे में मिर्ची बाबा को 200 कैदियों के बीच में रहना पड़ेगा. मिर्ची बाबा को आम कैदी की तरह दो चादर, तीन पतले कंबल दिए गए हैं. वो जमीन पर ही लेटे हुए हैं उनकी सभी अय्याशी जेल में आने के बाद खत्म हो गई है.

ये भी पढ़ें- Exclusive: भोपाल के एक घर में इस तरह चल रहा था मिर्ची बाबा का अय्याशी का अड्डा, स्टाफ फरार

बाबा के घर छापा
भोपाल में मिनाल रेसीडेंसी का ए 53 डुप्लेक्स बाबा का ठिकाना था. यह मकान किराए पर लेकर रखा था. घर पर त्रिपाठी रावत, अंसुल रावत के नाम की नेम प्लेट लगी है. आरोप है कि बाबा घर का किराया नहीं देता था. एक तरीके से उसने घर पर कब्जा कर रखा था. पुलिस कार्रवाई की भनक लगने पर मिर्ची बाबा ग्वालियर भाग गया था. घर पर ताला लगा हुआ था और बाहरी हिस्से में उसका सामान बिखरा पड़ा था. घर में काम करने वाला स्टाफ भी अब फरार है.

Tags: Bhopal latest news, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर