लाइव टीवी

गरीबों के बढ़े हुए बिजली के बिल की होली जलाने में BJP ने कर दिया ये काम, उल्‍टा पड़ सकता है दांव

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 9, 2019, 4:15 PM IST
गरीबों के बढ़े हुए बिजली के बिल की होली जलाने में BJP ने कर दिया ये काम, उल्‍टा पड़ सकता है दांव
भाजपा ने जलाए थे सरकारी क्‍वार्टर के बिजली बिल.

निकाय चुनाव (Civic Elections) से पहले शुरू हुई बिजली, सड़क और पानी की लड़ाई में बीजेपी (BJP) को नुकसान होता दिख रहा है. कुछ दिन पहले भोपाल (Bhopal) में बीजेपी नेताओं ने दिवाली से पहले जिन बिलों की होली जलाई वो बिल गरीबों के थे ही नहीं. यही बात अब उनके लिए मुश्किल बनती दिख रही है.

  • Share this:
भोपाल. निकाय चुनाव (Civic Elections) से पहले शुरू हुई बिजली, सड़क और पानी की लड़ाई में बीजेपी (BJP) का दांव उल्‍टा पड़ता दिखाई दे रहा है. जी हां, राजधानी भोपाल (Capital Bhopal) में बीजेपी नेताओं ने बढ़े हुए बिल के विरोध में प्रदर्शन तो किया, लेकिन असली बिल लाना भूल गए. न्यूज़ 18 की पड़ताल में खुलासा हुआ है कि दिवाली से पहले बीजेपी ने जिन बिलों की होली जलाई वो बिल गरीबों के थे ही नहीं. भोपाल के रोशनपुरा चौराहे (Roshanpura Chouraha) पर दिवाली (Diwali) से पहले बिजली बिलों की होली जलाने जुटे बीजेपी कार्यकर्ताओं के विरोध की कलई उस वक्त खुल गई जब न्यूज़ 18 की पड़ताल में इकट्ठा कर लाए गए बिलों की हकीकत सामने आ गई.

बीजेपी ने जो बिल जलाए वो दरअसल सरकारी मकानों के थे. इससे भी बड़ी बात ये कि जिस घर का बिल जलाया गया उसका बिल इस महीने माइनस में आया है. बिजली बिल पर हुए विरोध प्रदर्शन पर न्यूज़ 18 की इस पड़ताल के बाद एमपी का सियासी पारा चढ़ गया है. कांग्रेस ने बीजेपी को विरोध के लिए विरोध की राजनीति न करने की सलाह दी है.

न्यूज़ 18 की पड़ताल
दरअसल, बीजेपी जिलाध्यक्ष विकास विरानी और पूर्व विधायक सुरेंद्र नाथ सिंह तमाम नेताओं के साथ रोशनपुरा चौराहे पर गरीबों के बिजली के बढ़े हुए बिलों के विरोध में इकट्ठा हुए थे. इस दौरान उन्होंने बिजली बिलों की होली जलाई, जो बिल बीजेपी नेताओं ने जलाए वो दरअसल गरीबों के बढ़े हुए थे ही नहीं. जलाए गए बिल सरकारी क्वार्टर के थे और उसमें भी खास बात ये थी कि जिस मकान का बिल जलाया गया उसके मालिक ने पिछले महीने एडवांस में ही बिल जमा कर दिया था, जो इस महीने निगेटिव में दर्ज किया गया.

बिजली बिल पर क्या है तकरार की वजह ?
मध्य प्रदेश में संबल योजना के तहत पूर्व की शिवराज सरकार ने 200 रुपए में गरीबों को अनलिमिटेड बिजली देने की योजना शुरू की थी. विधानसभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन के बाद कांग्रेस ने अपने वचन के मुताबिक गरीबों को 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली बिल देने का प्रावधान कर दिया. बाद में ये प्रावधान सभी के लिए लागू कर दिया गया, लेकिन बीजेपी का आरोप है कि 100 यूनिट बिजली जलना आज की तारीख में आम बात है लिहाजा गरीबों को 200 रुपए में ही अनलिमिटिड बिजली दी जाए. बीजेपी ज्यादा बिजली बिल आने के भी आरोप लगाती रही है.

ये भी पढ़ें -
Loading...

मंदसौर में विश्व हिंदू परिषद के नेता युवराज सिंह चौहान की गोली मारकर हत्या
Rafale deal: देश के लिए ऐतिहासिक पल के गवाह बने हरदा के IFS नमन उपाध्याय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 3:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...