मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव की जंग के लिए सब तैयार, बस ऐलान का इंतजार

मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव किसी भी दिन हो सकता है ऐलान.

मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव किसी भी दिन हो सकता है ऐलान.

MP Urban body Election: मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव में फतह के लिए BJP बैठकें कर कार्यकर्ताओं को 'बूथ जीता तो चुनाव जीता' का मंत्र दे रही है, तो गुटबाजी से जूझ रही कांग्रेस ने ईवीएम की बजाये बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है. इस बीच अप्रैल-मई में बोर्ड परीक्षाओं को देखते हुए चुनाव टालने की भी आशंकाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 3:28 PM IST
  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव (Urban Body Election) के लिए कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनैतिक दल ही नहीं, राज्य निर्वाचन आयोग भी पूरी ताकत से तैयारियों में जुटा हैं. हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ के निकाय चुनाव जल्द कराने के आदेश के बाद तो इस काम में युद्धस्तर पर तेजी आई है. भाजपा जहां जिताऊ उम्मीदवारों की तलाश के साथ बैठकों के जरिए कार्यकर्ताओं के कान में 'बूथ जीता तो चुनाव जीता' का मंत्र फूंकने में जुटी हैं, तो कांग्रेस में भी बैठकों का सिलसिला शुरू है. पार्टी को ईवीएम पर भरोसा नहीं है, लिहाजा वह मतपत्रों के माध्यम से निकाय चुनाव कराने की मांग कर रही है. उधर, राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने 3 मार्च को मतदाता सूचियां घोषित करने की बात कही है. इसके बाद आयोग कभी भी नगरीय निकाय चुनावों की तारीखों की घोषणा कर सकता है.

यह चुनाव अप्रैल के आखिरी हफ्ते से शुरू होकर मई के पहले हफ्ते तक कराए जाने की संभावना है. अगर ऐसा होता है तो इन्हीं दिनों में कक्षा 9वीं से लेकर 12वीं तक की परीक्षाएं भी चल रही होंगी, इसी दौरान चुनावी भोंपुओं का शोर छात्रों के भविष्य को बर्बाद कर सकता है. अगर आयोग इन परीक्षा तिथियों को संज्ञान में लेता है, तो संभावना है कि चुनाव की तारीखें दो महीने और टाल दी जाएं.

407 नगरीय निकायों में होना है चुनाव

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज