• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • MP Politics: कोरोना मृतकों के तर्पण पर भी सियासत, कांग्रेस ने कहा- हम करेंगे तर्पण, बीजेपी ने दी ये सलाह

MP Politics: कोरोना मृतकों के तर्पण पर भी सियासत, कांग्रेस ने कहा- हम करेंगे तर्पण, बीजेपी ने दी ये सलाह

मध्य प्रदेश में मृतकों के तर्पण पर भी सियासत शुरू हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्य प्रदेश में मृतकों के तर्पण पर भी सियासत शुरू हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

Madhya Pradesh: बीजेपी-कांग्रेस फिर आमने-सामने हैं. अब श्राद्ध पक्ष को लेकर राजनीति शुरू हो गई है. प्रदेश महिला कांग्रेस श्राद्ध पक्ष में कोविड-19 के दौरान मारे गए लोगों की शांति के लिए तर्पण करेगी. इस पर बीजेपी ने उसे पितरों से सद्बुद्धि मांगने की सलाह दी है.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में श्राद्ध पक्ष में भी सियासी दलों ने राजनीति का रास्ता तलाश लिया है. मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस ने श्राद्ध पक्ष में कोविड-19 के दौरान मारे गए लोगों की शांति के लिए तर्पण करने का फैसला किया है. इस पर बीजेपी भी उसे सलाह देने से नहीं चूकी. बीजेपी ने कांग्रेस के इस फैसले पर उसे पूर्वजों से सद्बुद्धि मांगने की सलाह दी है.

महिला कांग्रेस का कहना है कि श्राद्ध पक्ष को पूर्वजों और दिवंगतों  की शांति के लिए किया जाने वाला विशेष संस्कार है. कोरोना काल के दौरान कई ऐसी दुखद घटनाएं सामने आईं, जब पूरे परिवार ही खत्म हो गए. उनका तर्पण और मुक्ति के लिए कर्मकांड नहीं हो पाया. ऐसे में दिवंगतों की शांति के लिए महिला कांग्रेस उनका तर्पण और श्राद्ध करेगी. इधर, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी कोरोना काल के मृतकों के परिजनों को 4 लाख की अनुग्रह राशि देने की मांग की है.

बीजेपी ने विपक्ष को दी ये सलाह

कांग्रेस के इस कदम पर बीजेपी ने महिला कांग्रेस को सलाह दी है. बीजेपी प्रवक्ता नेहा बग्गा ने कहा है कि कोरोना का काल में कांग्रेस के कार्यकर्ता बाहर नहीं निकले. उन्होंने जनता को भड़काने का काम किया. महिला कांग्रेस को अपने पितरों से सद्बुद्धि मांगना चाहिए और जनता से माफी मांगनी चाहिए.

किसान विरोधी है सरकार- पटवारी

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस, बीजेपी पर लगातार हमलावर हो रही है. हाल ही में कांग्रेस के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने सरकार पर हमला बोला. पटवारी ने कहा, ‘शिवराज सिंह चौहान सरकार मध्य प्रदेश की अब तक की सबसे ज्यादा किसान विरोधी सरकार है. मुख्यमंत्री आज किसानों को बीज बांटने का नाटक कर रहे हैं. जब किसानों को बीज की सबसे ज्यादा जरूरत थी तब सोयाबीन का बीज बाजार से गायब था.

किसानों को 9000 रुपए से लेकर 12000 रुपए तक के दाम में बीज खरीदने को मजबूर होना पड़ा था. निमाड़ के इलाके में सूखा पड़ा हुआ है और शिवराज सिंह चौहान सरकार ने आज तक वहां के किसानों की सुध नहीं ली. इंदौर और आसपास के इलाके में आलू का किसान बुरी तरह परेशान हैं मूंग के किसान की दुर्दशा आप सब को पहले से ही पता है.’

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज