लाइव टीवी

BJP ने किया विधायक प्रह्लाद लोधी की सदस्‍यता खत्‍म करने का विरोध, राज्‍यपाल को सौंपा ज्ञापन

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 5, 2019, 10:40 PM IST
BJP ने किया विधायक प्रह्लाद लोधी की सदस्‍यता खत्‍म करने का विरोध, राज्‍यपाल को सौंपा ज्ञापन
क्या अपने विधायक की सदस्यता खत्‍म होने पर राज्यपाल से बिना ज्ञापन मिलने पहुंच गए बीजेपी नेता?

भाजपा विधायक प्रह्लाद लोधी (BJP MLA Prahlad Lodhi) की सदस्यता खत्म किए जाने के मामले में आज पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल लालजी टंडन (Governor Lalji Tandon) से मुलाकात की. हालांकि ज्ञापन शाम को सौंपा गया है और कांग्रेस इसी बात को मुद्दा बना रही है.

  • Share this:
भोपाल. पन्ना जिले की पवई सीट से भाजपा विधायक प्रह्लाद लोधी (BJP MLA Prahlad Lodhi) की सदस्यता खत्म किए जाने के मामले में अब ज्ञापन सियासत शुरू हो गई है. बीजेपी नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार दोपहर इस सिलसिले में राज्यपाल लालजी टंडन (Governor Lalji Tandon) से मुलाकात की थी, लेकिन राज्यपाल को ज्ञापन शाम को सौंपा गया. कांग्रेस की मानें तो बीजेपी नेता राज्यपाल से मुलाकात करने दरअसल बिना ज्ञापन के ही पहुंच गए थे और जब राज्यपाल ने उन्हें लिखित में आवेदन देने के लिए कहा तब जाकर बीजेपी विधायक और पूर्व विधानसभा स्पीकर सीताशरण शर्मा (Sitasharan Sharma) की ओर से राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया गया.

भाजपा ने कही ये बात
जबकि बीजेपी का कहना है कि राज्यपाल को ज्ञापन कानूनी सलाह के बाद दिया गया है. इस मामले पर मुलाकात के दौरान उनसे विस्तृत चर्चा की गई थी. आपको बता दें कि मंगलवार दोपहर बीजेपी नेताओं ने राज्यपाल लालजी टंडन से प्रह्लाद लोधी की सदस्यता खत्म किए जाने के मामले में मुलाकात की थी. इस प्रतिनिधिमंडल में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, पूर्व विधानसभा स्पीकर सीताशरण शर्मा, विधायक यशोधरा राजे सिंधिया, मोहन यादव, कमल पटेल शामिल थे.

सुबह बैठक, दोपहर को मुलाकात और शाम को ज्ञापन

बीजेपी विधायक प्रह्लाद लोधी की सदस्यता खत्म किए जाने के मामले में देर से जागी बीजेपी ने मंगलवार को स्पीकर एनपी प्रजापति के फैसले का मुखर विरोध करने का फैसला किया. बीजेपी के वरिष्ठ विधायक पूर्व मंत्री और बीजेपी विधायक नरोत्तम मिश्रा के चार इमली स्थित बंगले पर इकट्ठा हुए. बंगले पर पहले सभी नेताओं की रणनीति तैयार हुई और दोपहर में राज्यपाल से मिलने का वक्त तय हुआ. पूर्व विधानसभा स्पीकर सीताशरण शर्मा के साथ वरिष्ठ विधायक राजभवन पहुंचे और राज्यपाल से प्रह्लाद लोधी की सदस्यता के मुद्दे पर चर्चा की.

बीजेपी ने इस मुलाकात को इस तरह पेश किया कि वो स्पीकर एनपी प्रजापति के फैसले के खिलाफ राज्यपाल से मिली है, लेकिन हैरान करने वाली बात ये रही कि बीजेपी नेता राज्यपाल के नाम ज्ञापन लाना ही भूल गए. कांग्रेस ने इसे मुद्दा बना लिया और बीजेपी नेताओं की राज्यपाल से मुलाकात को सियासी नौटंकी करार दे दिया. बाद में शाम होते होते पूर्व विधानसभा स्पीकर सीताशरण शर्मा की ओर से ज्ञापन राज्यपाल को दिया गया.
Loading...

कांग्रेस-बीजेपी आमने सामने
कांग्रेस ने इस मुद्दे को लपकने में देर नहीं की. कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता ने बीजेपी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी को कम से कम राज्यपाल की गरिमा का ध्यान रखना चाहिए. बीजेपी की अगर कोई शिकायत है तो वो उसे राज्यपाल के पास ले जाने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन उसे उस पद की गरिमा का ख्याल रखना चाहिए. वहीं बीजेपी विधायक मोहन यादव ने कहा कि हम समय लेकर राज्यपाल से मुलाकात करने गए थे. पहले उनसे हर पहलू पर बात की गई और फिर कानूनी राय के बाद लिखित में भी बात रखी गई. ये कोई नाली सड़क का मुद्दा नहीं था कि ज्ञापन लेकर जाते.

लोधी पर ये थे आरोप
विधायक लोधी समेत 12 लोगों पर आरोप था कि उन्होंने रेत खनन के खिलाफ कार्रवाई करने वाले रैपुरा तहसीलदार को बीच रोड पर रोककर मारपीट की. इस मामले में सांसदों-विधायकों के मामले देखने वाली विशेष अदालत ने उन्हें दो साल की सजा सुनाई है.

ये भी पढ़ें-

कैलाश विजयवर्गीय की कांग्रेस मंत्री से तू-तू मैं-मैं, बोले- मंत्रियों की औकात क्या

बंदरिया अपने घायल बच्‍चे को लेकर पहुंची अस्‍पताल, स्‍टाफ की आंखें हो गईं नम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 10:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...