BHOPAL NEWS: पुराने भोपाल में विधायक के इशारे पर 10 हजार घरों पर लगाए काले झंडे, जानें पूरा मामला

मप्र की राजधानी भोपाल में हजारों घरों और चौराहों पर काले झंडे लगाए गए.

मप्र की राजधानी भोपाल में हजारों घरों और चौराहों पर काले झंडे लगाए गए.

Protest Against Black Marketing of Drugs And Inflation: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कई पुराने इलाकों में लोगों ने घरों और चौराहों पर काले झंडे लगाए. ये काले झंडे कांग्रेस एमएलए आरिफ मसूद के कहने पर लगाए गए.

  • Last Updated: May 20, 2021, 1:36 PM IST
  • Share this:

भोपाल. पुराने भोपाल के कई इलाकों में एक कांग्रेसी विधायक आरिफ मसूद (Congress MLA Arif Masood) के कहने पर बुधवार देर रात लोगों ने अपने घरों और चौराहों पर काले झंडे (Black Flag) लगाए. पुलिस प्रशासन और नगर निगम ने सूचना मिलते ही इन झंडों को उतरवा दिया. विधायक का दावा है कि करीब दस हजार घरों पर झंडे लगाए गए थे, जिससे प्रशासन घबरा गया.

कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि हमने कोरोना महामारी में दवाओं की कालाबाजारी, पेट्रोल-डीज़ल के बढ़ते दाम और लगातार बढ़ती महंगाई के खिलाफ आंदोलन स्वरूप घरों और चौराहों पर काले झंडे लगवाए थे. लेकिन, प्रशासन ने झंडे उतरवा दिए. मसूद ने कहा कि हमारा आंदोलन गांधीवादी तरीके से था, जो नहीं करने दिया गया.

इन पुराने इलाकों में लगे थे झंडे

जानकारी के मुताबिक, शहर के पुराने इलाकों शब्बन चौराहा, जिंसी चिकलोद रोड, बरखेड़ी, छावनी, मंगलवारा, घोड़ा नक्कास, इतवारा, बुधवारा, इब्राहिम पुरा, कमला पार्क, अशोका गार्डन, पीर गेट, इमामी गेट, करोंद, शहीद नगर, शाहजहांनाबाद, कबीट पुरा, काजी कैम्प, शिवाजी नगर, साईं बाबा नगर, 12 नंबर मल्टी, साई बोट और मीरा नगर में घरों और चौराहों पर काले झंडे लगाए गए थे. बता दें अधिकांश इलाके मुस्लिम बाहुल्य इलाके हैं, जिनमें से कई कानून-व्यवस्था के नजरिए से संवेदनशील माने जाते हैं.
कांग्रेस एमएलए ने लगाया बीजेपी पर गंभीर आरोप

दूसरी ओर, मसूद ने सरकारी आवास पर पत्रकारों से चर्चा में आरोप लगाया कि भाजपा के कुछ मंत्रियों और उनके लोगों द्वारा रेमडेसिवीर इंजेक्शन की बड़े पैमाने पर कालाबाज़ारी की गई. इस वजह से कोरोना महामारी की मार झेल रहे लोगों से कई गुना अधिक दाम वसूला गया. मसूद ने कहा कि आख़िर कोई बात तो है कि दवाओं की कालाबाजारी करने वाला हर व्यक्ति भाजपा का ही क्यों होता है. उन्होंने कहा कि उनके संज्ञान में आया है कि अब ब्लैक फंगस की दवाओं की कालाबाजारी भी शुरू हो गई है.

आरिफ मसूद की मांग



आरिफ मसूद ने कहा कि बढ़ती महंगाई पर रोक लगाई जाए और अस्पतालों में कोरोना-फ़ंगस के मरीज़ों का इलाज फ्री किया जाए. कोरोना काल के दौरान बिजली बिल माफ करने, स्कूल, कॉलेजों की फीस माफ करने, बिगड़ती स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार लाने तथा इंजेक्शन की काला बाजारी पर रोक लगाई जाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज