गहरी नींद से जागा BMC, कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर के एक महीने बाद करेगा सैनिटाइजेशन

भोपाल नगर निगम शहर को दोबारा सैनिटाइज करने की योजना बना रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

भोपाल नगर निगम शहर को दोबारा सैनिटाइज करने की योजना बना रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में BMC गहरी नींद से जाग गया है. कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर के ठीक एक महीने बाद सैनिजाइजेशन की याद आई है. अब पिछली बार की तरह जगह-जगह सैनिटाइज की जाएगी.

  • Last Updated: May 1, 2021, 11:50 AM IST
  • Share this:
भोपाल. राजधानी भोपाल का नगर निगम गहरी नींद से जाग गया है. कोरोना संक्रमण की पहली लेयर में नगर निगम ने समय रहते कॉलोनियों और घरों की सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की थी. लेकिन, दूसरी लहर में एक महीने बाद सैनिटाइजेशन का निर्णय लिया गया है.

गौरतलब है कि पहली लहर के दौरान शहर में फैलते संक्रमण को रोकने के लिए नगर निगम ने कंटेनमेंट जोन के अलावा शहर की तमाम कॉलोनियों के घरों में और उसके आसपास सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की थी. इसके लिए हर जोन में सैनिटाइजेशन की मशीनें दी गई थीं. उस दौरान एक टोल फ्री नंबर भी दिया गया था. इसी नंबर के आधार पर कॉलोनियों और घरों में संक्रमण को खत्म किया जा रहा था.

इतनी देर बाद दूर हुआ आलस

कोरोना के इस विकट संकट और लगातार तेजी से फैल रहे संक्रमण के बीच पूरे एक महीने के बाद नगर निगम ने घरों के सैनिटाइजेशन की होम डिलीवरी की शुरू की है. पिछली लहर की तरह ही नगर निगम की टीम हैंड स्प्रेयर मशीनों से सैनिटाइजेशन करेगी.
निगम ने सैनिटाइजेशन के लिए 18002330014 नम्बर जारी किया है. यह कंट्रोल रूम का टोल फ्री नंबर है और इस पर फोन लगाने पर कुछ ही घंटों में नगर निगम की टीम सैनिटाइजेशन करने के लिए उस जगह पर पहुंच जाएगी. हर जोन स्तर पर हैंड स्प्रेयर मशीनों की व्यवस्था की गई है. सैनिटाइजेशन के लिए नगर निगम ने गुजरात से 10000 लीटर सोडियम हाइपो क्लोराइड केमिकल बुलाया है.

ये है प्रदेश की हालत

कोरोना संक्रमण  को लेकर मध्यप्रदेश में राहत भरी खबर सामने आई है. कोरोना संक्रमण के मामले में प्रदेश 13वें से 14वें स्थान पर खिसक गया है. प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों की संख्या घटकर 90796 हो गई है. नए प्रकरणों की तुलना में रिकवरी बढ़ी है.



बीते 24 घंटे में कोरोना के 12400 नए मरीज आए हैं जबकि 13 हजार 584  मरीज स्वस्थ हुए. वहीं प्रदेश की रिकवरी रेट 83 प्रतिशत हो गयी है. प्रदेश में कोरोना की पॉजिटिविटी रेट में भी गिरावट दर्ज की जा रही है. प्रदेश की औसत पॉजिटिविटी रेट 21.1% हो गई है. 7 दिन का औसत पॉजिटिविटी रेट 22.4% है. देश का सात दिन का औसत पॉजिटिविटी रेट 21% है.

कहां कितने केस ?

इंदौर जिले में सबसे ज्यादा 1811 नए कोरोना प्रकरण सामने आए हैं. भोपाल में 1713, ग्वालियर में 980, जबलपुर में 771, रीवा में 345, उज्जैन में 322, रतलाम में 280, सागर में 257, शहडोल में 256 और धार में 249 नए कोरोना केस रिपोर्ट हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज